Sarita - The flagship magazine of the group that best embodies its ideology of fighting against religious obscurantism and political authoritarianism. Since its launch, Sarita has maintained a bold stance on issues of national importance and has been at the forefront of a crusade against the fetters that hinder the progress of our society.

नोटबंदी का काला अध्याय
राष्ट्रीय
नोटबंदी का काला अध्याय
By पुष्कर पुष्प | 20 January 2017
रेखा गणित से संबंधित एक कहावत है कि किसी बड़ी रेखा को बिना छेड़े छोटी करना हो तो उस के समानांतर उस से बड़ी रेखा खींच दो.
उलटी पड़ी प्रधानमंत्री जनधन योजना
आर्थिक
उलटी पड़ी प्रधानमंत्री जनधन योजना
By सरिता टीम | 20 January 2017
प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत देश के सभी प्राइवेट और सरकारी बैंकों को जीरो बैलेंस पर गरीब कमजोर लोगों के खाते खोलने का आदेश दिया गया.
महिला निर्देशक के साथ एक्शन फिल्म करना चाहूंगा : शाहरुख खान
इंटरव्यू
महिला निर्देशक के साथ एक्शन फिल्म करना चाहूंगा : शाहरुख खान
By सोमा घोष | 20 January 2017
एक लंबे अर्से से बॉलीवुड पर अपनी धाक जमाये बैठे किंग खान यानि अभिनेता शाहरुख खान ने अपने कैरियर की शुरुआत टीवी से की थी.
हिंदी को कम न आंकें
सामाजिक
हिंदी को कम न आंकें
By प्रियदर्शनी सिंह ‘स्वीटी’ | 20 January 2017
हिंदी माध्यम से पढ़ने वाले छात्र यह न सोचें कि उन का भविष्य अंधेरे के गर्त में जा रहा है. हिंदी भाषा का स्वागत करें, क्योंकि एक सुनहरा अवसर आप का इंतजार...
17 संदेश जीवन को बेहतर बनाने के
परिवार
17 संदेश जीवन को बेहतर बनाने के
By गरिमा पंकज | 20 January 2017
जिंदगी पुराने ढर्रे पर चल रही है और बोरियत महसूस हो रही हो, तो नए साल में जिंदगी देखने का नजरिया बदलें कुछ इस तरह.
कहानी
लमहे पराकाष्ठा के
By डा. शशि मंगल | 1 November 2013
रूपा और आदित्य दोनों ही बहुत खुश थे. दुनियाभर के डाक्टरों के अनगिनत चक्कर लगाने के बाद, शादी के 10 साल बाद आखिर उन्हें यह खुशी मिली थी. लेकिन फिर भी वह...
मोबाइल पर भी थोड़ा तरस खाइए
सामाजिक
मोबाइल पर भी थोड़ा तरस खाइए
By सविता भट्टी | 20 January 2017
अगर आप को भी हर वक्त अपने मोबाइल पर खटरपटर करने की आदत है, तो समझिए कि आप की सुखशांति छिनने ही वाली है.
समाचार
करीम मोरानी पर बलात्कार और ब्लैकमेलिंग का आरोप
By शांतिस्वरूप त्रिपाठी | 20 January 2017
करीम मोरानी को पुलिस ने एक 24 वर्षीय थिएटर कलाकार द्वारा बलात्कार और ब्लैकमेलिंग के गंभीर आरोप लगाए जाने के बाद गिरफ्तार किया है.
जीवन में गंभीरता भी जरूरी
सरित प्रवाह \ संपादकीय
जीवन में गंभीरता भी जरूरी
By | 20 January 2017
जीवन एक संघर्ष है. न फसल मजाक से पैदा होती है, न मकान हंसी और चुटकुलों से बनते हैं, न ही बच्चे प्रवचनों से पैदा होते हैं और न भाषणों से बड़े होते हैं.
जीत के बाद भी क्यों नाखुश हैं कोहली!
खेल
जीत के बाद भी क्यों नाखुश हैं कोहली!
By सरिता टीम | 20 January 2017
कटक वनडे मैच में इंग्लैंड को 15 रनों से हराकर अपनी कप्तानी में पहली ही सीरीज जीतने वाले नए कप्तान विराट कोहली इस जीत से नाखुश नजर आ रहे हैं. आखिर क्यों,...
  • मजबूत प्रधानमंत्री कौन
    सरिता टीम  | 20 January 2017
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 8 नवंबर, 2016 को नोटबंदी के ऐलान के बाद 16 नवंबर को शुरू हुआ लोकसभा का शीतकालीन सत्र विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ गया.
  • विजया वासुदेवा  | 1 November 2013
    दिनोंदिन बढ़ते प्रकृति के अनुपम उपहार नन्हे की आंखों में इतने गहरे समा रहे थे कि खुद आभा का चेहरा धूमिल पड़ने लगा था. फिर भी न जाने क्यों आभा मन ही मन सोचती, बेटा है तो क्या हुआ, है तो मेरा नन्हा सा, प्यारा दुश्मन.
  • जीवन में गंभीरता भी जरूरी
    20 January 2017
    जीवन एक संघर्ष है. न फसल मजाक से पैदा होती है, न मकान हंसी और चुटकुलों से बनते हैं, न ही बच्चे प्रवचनों से पैदा होते हैं और न भाषणों से बड़े होते हैं.
  • क्रिकेट इतिहास में एक बल्लेबाज को 6 रन हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करती पड़ती है. लेकिन अगर बल्लेबाज गेंद को बिना सीमा रेखा के पार पहुंचाए ही एक गेंद में 6 रन हासिल करे, तो क्या ऐसा मुमकिन है?
  • जीत के बाद भी क्यों नाखुश हैं कोहली!
    कटक वनडे मैच में इंग्लैंड को 15 रनों से हराकर अपनी कप्तानी में पहली ही सीरीज जीतने वाले नए कप्तान विराट कोहली इस जीत से नाखुश नजर आ रहे हैं. आखिर क्यों, क्या है इसकी वजह.
  • आपने कभी नहीं देखा होगा ऐसा जबरदस्त छक्का
    टी-20 मैचों में चौकों-छक्कों की बरसात होना आम बात है लेकिन अफगानिस्तान के नजीबुल्लाह जादरान ने डेजर्ट टी20 टूर्नामेंट में यूएई के खिलाफ ऐसा छक्का लगाया जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी.
  • ई-वालेट पर साइबर हमले का डर
    सरिता टीम  | 20 January 2017
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक नोटबंदी का जो फैसला देश पर थोपा, उस से आम आदमी पर क्या फर्क पड़ा, उस ने क्या क्या झेला किसी से छुपा नहीं है.