राज्यसभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने अपने विदाई भाषण में कहा, 'मैं उन खुश किस्मत लोगों में से हूं जिनको कभी पाकिस्तान जाने का मौका नहीं मिला. जब मैं पाकिस्तान में परिस्थितियों के बारे में पढ़ता हूं, तो मुझे एक हिंदुस्तानी मुसलमान होने पर गर्व महसूस होता है.' जिससे साफ जाहिर है कि गुलाम नबी को आजाद को आखिरी दिन भी भारत के प्रति अपनी वफ़ादारी साबित करनी पड़ रही हैं.

Tags:
COMMENT