लेखिका- मनीषा अग्रवाल

मध्यम वर्ग के लोग अपनी सीमित आय तथा अधिक खर्च के कारण थोड़ी बचत ही कर पाते हैं .ऐसे में यह आवश्यक है कि वह अपनी बचत राशि को सुनियोजित तथा सुरक्षित तरीके से निवेश करें जो वृद्धावस्था किसी आपातकाल की स्थिति में अथवा किसी और जरूरत के समय उन के काम आ सके. बेहतर तरीके से निवेश के लिए बेहतर प्लानिंग जरूरी होती है .

निवेश के कुछ विकल्प निम्नलिखित हैं .

1. एफडी तथा आरडी - यह आम लोगों के बीच निवेश का सबसे लोकप्रिय माध्यम है. बैंक या पोस्ट ऑफिस में कराई जाने वाली टैक्स सेविंग एफडी (फिक्स डिपॉजिट) तथा आरडी (रेकरिंग डिपॉजिट) से आप निवेश के वक्त सेक्शन 80c के तहत टैक्स बचा सकते हैं .यह निवेश का सुरक्षित एवं गारंटीड रिटर्न का विकल्प है. इस पर मिलने वाले ब्याज पर आपको इनकम टैक्स स्लैब के अनुसार टैक्स चुकाना पड़ता है  .

ये भी पढ़ें- Valentine Special: लोग क्या कहेंगे

2. सोना- प्राचीन काल से भारतीय सोने में निवेश करते रहे हैं. मंहगाई के खिलाफ निवेश का अच्छा माध्यम है . सोने को चोरी से बचाने के लिए गोल्ड बॉन्ड या गोल्ड ई टी एफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड ) के द्वारा भी हम सोने में निवेश कर सकते हैं . गोल्ड ईटीएफ में निवेश तथा भुनाना दोनों ही शेयर बाजार द्वारा होता है .

3. जमीन अथवा मकान खरीदने में रुपया लगाना एक आम तरीका है. निवेश के पहले उस मकान अथवा जमीन के सभी कागजों का अच्छी तरह से निरीक्षण कर ले .इसके लिए बैंक से लोन भी आसानी से मिल जाता है. रेगुलराइज्ड कॉलोनी में घर लेने पर, पहले घर पर, प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत छूट भी मिलती है. पूरी तरह विकसित क्षेत्र की जगह सभी सुविधाओं से युक्त डेवलपिंग क्षेत्र में यदि घर या जमीन ली जाए तो बेहतर रिटर्न मिलने की संभावना रहती है इसके अलावा किराए से आमदनी का विकल्प भी होता है.

ये भी पढ़ें- Valentine Special: रिश्तों में सौदा नहीं

 4. शेयर  -इसमें रिटर्न की कोई निश्चित गारंटी नहीं होती है. किंतु अन्य विकल्पों की तुलना में लंबी अवधि में रिटर्न देने की क्षमता शेयरों में सबसे अधिक होती है. बेहतर जानकारी के साथ सही समय पर अच्छे शेयरों में निवेश करना आवश्यक होता है .

5. डिबेंचर - यह निश्चित रिटर्न देने वाले ऋण पत्र होते हैं जिनमें ₹10000 का भी निवेश कर सकते हैं . निवेश के पहले इनकी क्रेडिट रेटिंग अवश्य देख लेनी चाहिए .इनमें बैंक एफडी की तुलना में अधिक ब्याज मिलता है .

6.  म्यूच्यूअल फंड - यह इक्विटी,  हाइब्रिड,  डेब्ट आदि विभिन्न प्रकार के होते हैं. एसआईपी (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान ) के द्वारा इनमें लंबे समय के लिए निवेश सुरक्षित माना जाता है. अपनी जोखिम लेने की क्षमता के अनुसार ही म्यूच्यूअल फंड का चयन करना चाहिए .इसमें बेहतर रिटर्न मिलता है. म्यूच्यूअल फंड को बेचकर आप कभी भी अपना रुपया वापस ले सकते हैं .

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT