कहानी के बाकी भाग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

‘‘अरुणाजी, आप का फोन,’’ वृद्धाश्रम के प्रबंधक मनोहरजी ने कहा.

‘मेरा फोन?’ अरुणा सोचने लगी, कौन हो सकता है.

‘‘आज कोई खास दिन है क्या, मनोहरजी?’’ अरुणा ने जिज्ञासा से पूछा.

‘‘हां, आज तो आप लोगों का ही दिन है.’’

‘‘हमारा दिन?’’ कह अरुणा ने मनोहरजी से फोन ले लिया, ‘‘हैलो.’’

‘‘हैप्पी मदर्स डे, मम्मा,’’ आभास का स्वर सुनाई दिया. अरुणा एक पल को रिसीवर हाथ में पकड़े स्तब्ध खड़ी रही. उस के मुंह से बोल भी नहीं फूट सके थे. बस, आंखें झरझर बह रही थीं, जिह्वा तालू से चिपक गई थी.

‘‘क्या हुआ, मम्मा, आप ठीक तो हैं न? मैं आश्रम वालों को हर माह पेमैंट भेज देता हूं. ओके, टेक केयर,’’ और फोन कट गया.

रिसीवर पकड़े हुए कुछ पल यों ही निशब्द बीत गए.

‘‘हो गई बात?’’

मनोहरजी के कहने पर ‘जी’ कह कर अरुणा ने फोन रख दिया. भारी कदमों से चलती हुई वह अपने कमरे में आ गई.

‘‘क्या हुआ? क्या व्हाइट हाउस से डिनर का निमंत्रण था?’’ मनोरमा ने चुटकी वाले अंदाज में कहा.

‘‘हां, तो? तेरे राम व लक्ष्मण ने नहीं बुलाया क्या? और बुलाएंगे भी क्यों, वे तो तेरे लिए फूलों का गुलदस्ता लाएंगे, घर से पकवान बनवा कर लाएंगे,’’ अरुणा ने भी मनोरमा को छेड़ने वाले अंदाज में कहा और दोनों ही हंसने लगीं.

अरुणा और मनोरमा दोनों आश्रम में रहती थीं और एकदूसरे की अभिन्न मित्र बन गई थीं. एक ही कमरे में दोनों रहती थीं. अरुणा 5 वर्षों से इस वृद्धाश्रम में रह रही थी. जब आभास अमेरिका जा रहा था तभी उस ने अरुणा को इस आश्रम में पहुंचा दिया था यह कह कर कि ‘मां, तुम अकेली कहां रहोगी, इस आश्रम में तुम्हारे सरीखे बहुत लोग हैं, मन भी लगा रहेगा, और उचित अवसर मिलते ही मैं तुम्हें ले जाऊंगा.’ और फिर वह अपनी पत्नी तथा दोनों बच्चों को ले कर चला गया. तब से अरुणा उस उचित अवसर की प्रतीक्षा कर रही थी जो शायद कभी नहीं आने वाला था.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...