बनारस की दिव्या को मम्मी -पापा का साथ जरूर अच्छा लगता है, लेकिन हर बात पर मम्मी को टोकना उसे पसंद नही है. दिव्या चाहती है कि  उनके मम्मी -पापा उसके ऊपर भरोसा करें , क्योंकि वह दबे सवार में यह स्वीकारती है कि  हां -  मम्मी-पापा उनके मस्ती में ब्रेकर की तरह है. वह यह भी स्वीकार करती है कि कई दफा उसकी लड़ाई अभिभावकों से हो चुकी है. वही दिल्ली के साकेत की आरुणा का मानना है कि माता-पिता  से अच्छा दोस्त कोई नही , लेकिन आरुणा भी यह कहती है कि हां-मुझे हर गलती पर करार डांट पड़ता है, जो कुछ पल के लिए मुझे अपने अभिभावकों के बारे में गलत सोचने को मजबूर कर देता है. मेरठ के अजय चौधरी तो खुल कर कहते हैं, मै उसी क्षेत्र में करियर बनाना पसंद करुंगा जो मुझे पसंद है. अजय बताते है कि  12 वीं के बाद उनके  पिता कि इच्छा इन्हे इंजीनियर बनाने का था लेकिन उनकी रूचि निजी क्षेत्र में काम करने का था , इसलिए उन्होंने अभिभावक के इच्छा के विरोध जाना सही समझा, कुछ समय तक उनके पिता उनसे नाराज रहे फिर स्थिति सामान्य हो गई. आज अजय एक निजी संस्था में काम करते हुए अपने निजी जीवन में काफी खुश है.  इस प्रकार के कई उदाहरण है, बच्चो को दबे स्वर में अभिभावकों के विरोध आवाज बुलंद करने की.

question1-(1)

हां एक बात तो इन उदाहरणों  से साफ होता है कि कहीं ना कहीं अभिभावक भी बच्चों पर आवश्यकता से अधिक दबाव बना देते है . अगर 110 में से 84 फीसदी नवयुवक कुछ करने से पहले माता -पिता का इजाजत लेना उचित समझते हैं. जबकि 16 फीसदी इसका कोई जरुरत नहीं समझते. नवयुवक अपने बातों पर अभिभावकों का मश्वरा लेना उचित समझाते है.  तभी तो 78 फीसदी नवयुवक अभिभावकों के मशवरे पर  अमल करते हैं.  अगर मौज - मस्ती के बीच ब्रेकर की बात होती है तो 18 फीसदी खुल कर इस बात कों स्वीकार करते है कि उनके अभिभावक मौज -मस्ती में ब्रेकर बन जाते हैं.  जबकि 82 फीसदी नवयुवक  इस बात को सिरे से खारीच करते है.  अगर समय रहते  अभिभावक खुल कर सामने नही आये तो मौज -मस्ती के ब्रेकर का 18 फीसदी  ही कल के लिए भयावह बन सकता है. आधुनिक फैशन युग में सिगरेट को एक फैशन मानने वाले 11 फीसदी नायुवक अभिभावकों के सामने भी सिगरेट पिने की बातों सही मानते है.  जबकि 89  फीसदी नवयुवक आज भी अभिभावकों के सामने इस फैशन रूपी  नशा के प्रचलन को कभी ना करने कि बात करते है.  यह एक शुभ संकेत है फिर भी 11 फीसदी का जवाब अभिभाको को सोचने  पर मजबूर कर देने वाला है  कि कल उनके बच्चे इस फैशन के चपेट में ना आ जाये.  72 फीसदी नवयुवक का मानना है कि  उन्हें अपनी  गलती के लिए डांट पड़ती है, जबकि 28  फीसदी नवयुवक ऐसे नकारते है. अभिभावकों के लिए यह जरुरी है कि  वह आपने बच्चो को गलती पर डाटने के बजाये समझाने पर जोर दे. ताकि 72 फीसदी का विरोध में उठाने वाला स्वर काम हो और बच्चे उनके पास और पास आये. इंजीनियरिंग का क्रेज  अभिभावकों के बीच  आज भी बना हुआ है, लेकिन नवयुवक इसे  नकारते है. 64 फीसदी नवयुवक अपने पसंद से करियर चुनना चाहते है. आपसी झड़पों के बारे में 66 फीसदी नवयुवक का मानना है कि उनका अपने घर में झगडा नही होता  है.  जबकि एह तिहाई ( 34 फीसदी ) का मानना है कि उनका झगडा आपने घर में हुआ है . यह विशेष रिपोर्ट अभिभावकों कों बच्चो  से और  नजदीक आने का संदेश देता है , तो नवयुवको के बदलते स्वरूप को बायान करता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT