जो काम करोड़ों रुपया खर्च करके ना हो पाया वो काम मात्र इक्कीस दिन के लॉक डाउन ने कर दिया. दिल्ली में यमुना जी उठी है. यमुना फिर से साँसे ले रही है. फिर से नीली दिख रही है. इसमें मछलियां अटखेलियां करती नज़र आ रही हैं.

यमुना को साफ़ करने के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार ने बड़ी मशक्क़तें कीं, इसकी सफाई के लिए करोड़ों का बजट फूंक दिया, मगर कोई सकारात्मक परिणाम कभी नहीं निकला, लेकिन 21 दिन के लॉक डाउन में यमुना ने खुद अपने को साफ़ कर लिया. इक्कीस दिन के बंद में ना तो यमुना में औद्योगिक कचरा गिरा, ना लोग अपना मैल धोने यहाँ आये और ना पूजा पाठ, पुष्प-दिया प्रवाह इसमें हुआ. शव दाह, अस्थि या मूर्ती विसर्जन जैसे उपक्रम भी इसके घाटों पर नहीं हुए. नतीजा यमुना खुश हो कर अपने अति पुराने सुन्दर नीले रूप में निखार आई. यमुना के इस बदलाव को विशेषज्ञों के स्तर पर काफी गंभीरता से लिया जा रहा है. लॉक डाउन ने यमुना ही नहीं देश की बाकी नदियों को भी जीवनदान दिया है. गंगा, गोमती, ब्रह्मपुत्र आदि तमाम नदियों का जल अपना रंग बदल कर स्वच्छ नीला नज़र आने लगा है. इनमे जलीय जीवों की तादात बढ़ती दिख रही है.

Tags:
COMMENT