"आम लोगों से एक किलोमीटर की दूरी पर चलो और मुल्लाओं से एक किलोमीटर की दूरी से..."

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ऐसी पोस्टों को आप नजरंदाज नहीं कर सकते क्योंकि कोरोना फैलाने में उन लगभग 4 हजार मुसलमानों को बड़ा हाथ साबित हो चुका है जो तबलीगी जमात के जलसों में शामिल हुये थे. लेकिन क्या यह पूरे मुसलमानों से नफरत की बहुत बड़ी तो दूर की बात है बहुत छोटी वजह भी होना चाहिए इस सवाल का सटीक जबाब खोजा जाना जरूरी हो चला है.

Tags:
COMMENT