पल्लवी ने कलाई पर बंधी घड़ी में समय देखा. सुबह के 9 बजे थे. ट्रेन आने में अभी 1 घंटा था. अगर वह 10 बजे भी स्टेशन के लिए निकली तब भी टे्रन के वक्त पर पहुंच जाएगी. स्टेशन 5-7 मिनट की दूरी पर ही तो था.

पल्लवी एक बार किचन गई. महाराज नाश्ते की लगभग सभी चीजें बना चुके थे. 10 बजे तक नाश्ता टेबल पर तैयार रखने का आदेश दे कर वह वापस ड्राइंगरूम में आ गई और सरसरी तौर पर सजावट की मुआयना करने लगी. ड्राइंगरूम की 1-1 चीज उस की धनाढ्यता का परिचय दे रही थी.

पारुल तो दंग रह जाएगी यह सब देख कर. पल्लवी की संपन्नता देख कर शायद उसे अपनी गलती का एहसास हो. पश्चात्ताप हो.

पारुल पल्लवी की छोटी बहन थी. आज वह पल्लवी के यहां 4-5 दिनों के लिए आ रही है. ऐसा नहीं है कि पारुल ने पल्लवी का घर नहीं देखा है. लेकिन वह यहां 5 वर्ष पहले आई थी. पिछले 5 वर्षों में तो पल्लवी के पति प्रशांत ने व्यवसाय में कई गुना प्रगति कर ली है और उन की गिनती शहर के सब से धनी लोगों में होने लगी है. 5 साल पहले जब पारुल यहां आई थी तो पल्लवी 5 हजार वर्गफुट की जगह में बने बंगले में रहती थी. लेकिन आज वह शहर के सब से पौश इलाके में अति धनाढ्य लोगों की कालोनी में 25 हजार वर्गफुट में बने एक हाईफाई बंगले में रहती है. अपनी संपन्नता के बारे में सोच कर पल्लवी की गरदन गर्व से तन गई.

पल्लवी का मायका भी बहुत संपन्न है. पल्लवी से 6 साल छोटी है पारुल. पढ़ने में पल्लवी का कभी मन नहीं लगा. वह सारा दिन बस अपने उच्चवर्गीय शौक पूरे करने में बिता देती थी. इसीलिए 20 वर्ष की होने से पहले ही उस के पिता ने प्रशांत के साथ उस का विवाह कर दिया.

प्रशांत से विवाह कर के पल्लवी बहुत खुश थी. रुपयापैसा, ऐशोआराम, बस और क्या चाहिए जीवन में. हर काम के लिए नौकर. पल्लवी जैसी सुखसुविधाएं चाहती थी वैसी उसे मिली थीं.

पिताजी पारुल का भी विवाह जल्द ही कर देना चाहते थे, लेकिन वह तो सब से अलग सांचे में ढली हुई थी. जब देखो तब किताबों में घुसी रहती. पढ़ाई के अलावा भी न जाने और कौनकौन सी किताबें पढ़ती रहती. उसे एक अलग ही तरह के लोग और परिवेश पसंद था. स्कूलकालेज में भी वह बस पढ़ाई में तेज और बुद्धिमान लड़कियों से ही दोस्ती करती थी. उसे रुपए की चकाचौंध में जरा भी रुचि नहीं थी. तभी एक से एक धनी व्यवसायी घरानों के रिश्ते ठुकराते हुए 4 साल पहले उस ने अचानक कालेज के एक असिस्टैंट प्रोफैसर से विवाह कर के सब को सकते में डाल दिया.

घर वालों को यह सहन न हुआ. तभी से मातापिता ने पारुल से रिश्ता तोड़ लिया था. लेकिन एक ही शहर में होने के बाद मातापिता आखिर कब तक बेटी से नाराज रहते. इधर 6 महीने से उन लोगों ने पारुल और पति पीयूष को घर बुलाना और उन के यहां आनाजाना शुरू कर दिया. तब पल्लवी ने भी पारुल से फोन पर बात करना और उसे अपने घर आने का आग्रह करना शुरू कर दिया.

ऐसा नहीं है कि पल्लवी को पारुल से बहुत लगाव है और वह बस स्नेहवश उस से मिलने को आतुर है, बल्कि पल्लवी तो अपनी संपन्नता के प्रदर्शन से पारुल को चकाचौंध कर के उसे यह एहसास दिलाना चाह रही थी कि देखो तुम ने मामूली आदमी से ब्याह कर के क्या कुछ खो दिया है जिंदगी में.

पल्लवी और उस के परिवार ने जीवन में हमेशा पैसे को महत्त्व दिया था. चाहे उस के पिता हों या पति, दोनों ही पैसे से ही आदमी को छोटाबड़ा समझते थे.

पौने 10 बज गए तो पल्लवी ने अपने विचारों को समेटा और ड्राइवर से गाड़ी निकालने को कहा. चमचमाती कार में बैठ कर वह स्टेशन पहुंची. समय पर ट्रेन आ गई.

स्लीपर क्लास से उतरती पारुल पर नजर पड़ते ही पल्लवी का जी कसैला हो उठा कि अगर संपन्न घर में शादी करती तो इस समय प्लेन से उतरती.

‘‘ओ दीदी कैसी हो? कितने साल हो गए तुम्हें देखे हुए,’’ पारुल ने लपक कर पल्लवी को गले लगा लिया और जोर से बांहों में भींच लिया.

क्षण भर को पल्लवी के मन में भी बहन से मिलने की ललक पैदा हुई पर तभी अपनी प्योर सिल्क की साड़ी पर उस का ध्यान चला गया कि उफ, गंदे कपड़ों में ही छू लिया पारुल ने. पता नहीं ट्रेन में कैसेकैसे लोग होंगे. अब तो घर जा कर तुरंत इसे बदल कर ड्राईक्लीन के लिए देना होगा.

घर पहुंच कर पल्लवी ने पारुल को बैठने भी नहीं दिया, सीधे पहले नहाने भेज दिया. ट्रेन के सफर के कारण पारुल के शरीर से गंध सी आ रही थी. पल्लवी स्वयं भी कपड़े बदलने चली गई.

डाइनिंग टेबल पर नाश्ता लगवा कर पल्लवी ने पारुल को आवाज लगाई. मोबाइल पर बात करते हुए पारुल आ कर कुरसी पर बैठ गई. बात खत्म कर के उस ने मुसकरा कर पल्लवी को देखा.

‘‘बाप रे दीदी… यह इतना सारा क्याक्या बनवा दिया है तुम ने,’’ पारुल आश्चर्य से नाश्ते की ढेर सारी चीजों को देख कर बोली.

‘‘कुछ भी तो नहीं. जब तक यहां है अच्छी तरह खापी ले… वहां तो पता नहीं…’’ पल्लवी ने अपनेआप को एकदम से रोक लिया वरना वह कहना चाह रही थी कि एक मामूली सी तनख्वाह में वह दालरोटी से अधिक क्या खा पाती होगी भला. पर यह कहने से अपनेआप को रोक नहीं पाई कि यहां तो रोज ही यह बनता है… तेरे जीजाजी तो ड्राईफ्रूट हलवे के सिवा और कोई नाश्ता ही नहीं करते.

‘‘अरे हां, जीजाजी क्या औफिस चले गए?’’ पारुल ने उत्साह से पूछा.

‘‘नहीं, वे तो काम से मुंबई गए हैं. वही से फिर बैंगलुरु और फिर हैदराबाद जाएंगे. व्यवसाय बढ़ गया है. महीने में 20 दिन तो वे बाहर ही रहते हैं,’’ पल्लवी ने अपने स्वर में भरसक गर्व का पुट भरते हुए कहा.

‘‘और तुम ने भी दोनों बच्चों को क्यों होस्टल में डाल दिया? बच्चे घर में होते हैं, तो रौनक रहती है,’’ पारुल ने एक कौर मुंह में डालते हुए कहा.

‘‘अरे, इन का स्कूल माना हुआ है, इन की इच्छा तो फौरेन भेजने की थी पर मैं ने कहा अभी बहुत छोटे हैं. हायर ऐजुकेशन के लिए भेज देना विदेश, अभी तो देहरादून ही ठीक है. यों भी जब पैसे की कोई कमी नहीं है तो बच्चों को क्यों न बैस्ट ऐजुकेशन दिलाई जाए. हां, जिन के पास पैसा न हो उन की मजबूरी है…’’ कहते हुए पल्लवी ने एक चुभती हुए गर्वीली दृष्टि पारुल पर डाली. लेकिन तब तक पारुल के मोबाइल पर बीप की आवाज आई और वह मैसेज पढ़ने में व्यस्त हो गई.

लिहाजा पल्लवी को चुप रह जाना पड़ा. फिर तो जब तक दोनों नाश्ता करती रहीं, पारुल मैसेज पढ़ती रही और जवाबी मैसेज भेजती रही. उस ने एक बार भी मुंह ऊपर नहीं उठाया. उलटे हाथ से लैटर टाइप करते हुए सीधे हाथ से एक कौर उठाती और मुंह में डाल लेती. क्या खा रही है, कैसा स्वाद है, मैसेज में मगन पारुल को कुछ पता नहीं चल रहा था.

पल्लवी मन ही मन खीज रही थी कि उस के इतने कीमती और ढेर सारे नाश्ते पर पारुल का ध्यान ही नहीं है.

पारुल के लगातार बेवजह हंसते रहने को पल्लवी उस की आंतरिक खुशी नहीं उस की दुख छिपाने की चेष्टा ही समझी. पल्लवी जैसी बुद्धिहीन और समझ ही क्या सकती थी. तभी तो यह सुन कर कि पारुल के यहां खाना बनाने को बाई या रसोइया नहीं, पल्लवी अवाक उसे देखती रही.

‘‘इस में इतना अचरज करने की क्या बात है दीदी? 2 ही तो लोग हैं. पीयूष को भी खाना बनाने का शौक है. हम दोनों मिल कर खाना बना लेते हैं और जरूरी बातचीत भी हो जाती है,’’ पारुल ने सहज रूप से उत्तर दिया.

अब तो पल्लवी के आश्चर्य की सीमा नहीं रही. पुरुष और किचन में? यह तो जैसे दूसरी दुनिया की बात है. उस ने न तो अपने पिताजी को कभी किचन में जाते देखा न कभी प्रशांत ने ही कभी वहां पैर रखा. पुरुष तो छोडि़ए, पल्लवी ने तो अपने घर की औरतों यानी मां या दादी को भी सिवा रसोइए को क्या बनेगा के निर्देश देने के और किसी काम से किचन में पैर रखते नहीं देखा.

‘‘पर तूने खाना बनाना कहां से सीखा?’’ पल्लवी ने प्रश्न किया.

‘‘पीयूष से ही सीखा दीदी. वे बहुत अच्छा खाना बनाते हैं,’’ पारुल ने उत्तर दिया.

रसोईघर की गरमी में पारुल खाना बनाती है, रोटियां बेलती है सोच कर ही पल्लवी को पहली बार बहन से सचमुच सहानुभूति हो आई.

‘‘असिस्टैंट प्रोफैसर की तनख्वाह इतनी भी कम नहीं होती कि एक रसोइया न रखा जा सके. इतना कंजूस भी क्यों है पीयूष?’’ पल्लवी विषाद भरे स्वर में बोली.

‘‘वे कंजूस नहीं हैं दीदी, उन्होंने तो बहुत कहा था कि रसोइया रख लो, लेकिन जिद कर के मैं ने ही मना किया. हाथपैर चलते रहते हैं तो शरीर पर बेकार चरबी नहीं चढ़ती. वरना बैठेबैठे खाते रहो तो मोटे हो कर सौ परेशानियों को निमंत्रण दो.’’

पारुल तो सहज बात बोल गई लेकिन पल्लवी को लगा पारुल उस पर व्यंग्य कर रही है. सचमुच कम उम्र में एक के बाद एक 2 बच्चे और उस पर तर माल खा कर बस सारा दिन आराम करना. घूमने के नाम पर गाडि़यों में घूमना, पार्टियों में जाना और मौल में शौपिंग करना. और करती ही क्या है पल्लवी. तभी तो जगहजगह थुलपुल मांस की परतें झांकने लगी हैं. शरीर बड़ी मुश्किल से कपड़ों में समाता है.

पहली बार पारुल के छरहरे कसे शरीर को देख कर ईर्ष्या का अनुभव किया पल्लवी ने. वह पारुल से मात्र 6 वर्ष बड़ी है,  लेकिन मांस चढ़ जाने के कारण 20 वर्ष बड़ी लग रही है. जबकि पारुल के चेहरे और शरीर पर आज भी 20-22 की उम्र वाली कमनीयता बरकरार है.

पल्लवी भी कपड़े बदल कर पलंग पर लेट गई. एक ही दिन हुआ है पारुल को आए. लेकिन सुबह से पीयूष के न जाने कितने फोन और मैसेज आ गए होंगे. अब भी शायद दोनों एकदूसरे को मैसेज ही कर रहे होंगे. 4 साल हो गए शादी को, लेकिन लग रहा है मानो महीना भर पहले ही ब्याह हुआ है. कितनी दीवानगी है एकदूसरे के लिए.

पहली बार पल्लवी के मन में एक गहरी टीस उठी. शादी के इतने बरसों में कभी याद नहीं किया काम के सिवा प्रशांत ने. उन के टूअर पर जाने पर यदि कभी अकेलेपन से ऊब कर पल्लवी ही बातचीत के उद्देश्य से फोन मिलाती तो प्रशांत झल्ला जाता कि मेरे पास गप्पें मारने के लिए फालतू समय नहीं है.

दिन में न सही, लेकिन रात में भी प्रशांत का कोई न कोई बहाना रहता कि पार्टी के साथ मीटिंग में हूं या डिनर पर काम की बातें हो रही हैं या फिर सो रहा हूं.

हार कर पल्लवी ने फोन करना बंद कर दिया. लेकिन आज पारुल और पीयूष को एकदूसरे के कौंटैक्ट में रहते देख कर पल्लवी के अंदर एक टीस सी उठी. इस बार तो 4 दिन हो गए प्रशांत को गए हुए. पहुंचने के फोन के बाद से कोई खबर नहीं है. देर तक छटपटाती रही पल्लवी. सुबह से पारुल के फोन को चैन नहीं है और पल्लवी… उस का फोन इतना खामोश है कि पता ही नहीं चलता कि फोन पास है या नहीं.

हाथ में पकड़े मोबाइल को देर तक घूरती रही पल्लवी और फिर प्रशांत को फोन लगाया. 1 2 3 … 10 बार लगातार फोन किया पल्लवी ने, लेकिन प्रशांत ने फोन नहीं उठाया. लगता है फोन साइलैंट मोड पर कर के सो गए हैं.

पारुल सो रही है या… सहज कुतूहल और ईर्ष्या के वशीभूत हो कर पल्लवी उठ कर पारुल के कमरे तक गई. दरवाजा बंद नहीं था. केवल परदे लगे थे. पल्लवी ने बहुत थोड़ा सा परदा सरका कर देखा. पलंग के सिरहाने वाले कोने पर एक मद्धिम रोशनी झिलमिला रही थी. उस रोशनी को देख कर पल्लवी के मन का अंधेरा घना हो गया.

आ कर चुपचाप पलंग पर लेट कर देर रात तक अपनेआप को तसल्ली देती रही. पल्लवी कि कल सुबह उठते ही उस की इतनी मिस कौल देख कर प्रशांत खुद ही फोन लगा लेंगे.

दूसरे दिन नाश्ता करते हुए पारुल ने टोक ही दिया, ‘‘कल से देख रही हूं, दीदी जीजाजी का एक बार भी फोन नहीं आया.’’

जले मन पर मानो नमक छिड़क दिया पारुल ने. तिलमिला कर कहने जा रही थी कि बहुत काम रहता है प्रशांत को… इतना बड़ा बिजनैस हैंडल करना आसान नहीं है. पीयूष की तरह फुरसतिया नहीं हैं कि चौबीसों घंटे मोबाइल पर बीवी से बातें या मैसेज करते रहें. लेकिन हड़बड़ा कर झूठ ही बोल गई, ‘‘सुबह ही तो तेरे आने से पहले बहुत देर तक बातें हुई थीं. फिर रात में भी बहुत देर तक बातें करते रहे. आखिर मैं ने ही कहा कि अब सो जाओ तब बड़ी मुश्किल से फोन काटा,’’ कहते हुए पल्लवी पारुल से आंखें नहीं मिला पाई. नाश्ता परोसने के बहाने आंखें यहांवहां घुमाती रही.

मोबाइल को हाथ में पकड़े पल्लवी घूर रही थी. सुबह के 10 बज गए हैं. क्या अब तक प्रशांत सो कर नहीं उठे होंगे? क्या उन्होंने मेरी मिस कौल नहीं देखी होंगी? क्या एक बार भी वे फोन नहीं लगा सकते? पता नहीं क्यों अचानक पल्लवी का मन तेजी से यह इच्छा करने लगा कि काश प्रशांत का फोन आ जाए. हमेशा से इस अकेलेपन को आजादी मानने वाली पल्लवी आज पारुल के सामने बैठ कर अचानक ही क्यों इस अकेलेपन से ऊब उठी है? क्यों किसी से कोने में जा कर बात करने को उस का मन लालायित हो उठा.

अपनेआप के साथ रह कर, जो अकेलापन कभी अकेलापन नहीं लगा वही पारुल के साथ होने पर भी क्यों आज इतने बरसों बाद काट खाने को दौड़ रहा है? शायद इसलिए कि पारुल उस के साथ, उस के सामने होते हुए भी लगातार पीयूष से जुड़ी हुई है, उस के साथ और जुड़ाव का एहसास ही पल्लवी के अकेलेपन को लगातार बढ़ाता जा रहा था.

पल्लवी ने फिर प्रशांत को फोन लगाया. लेकिन अब की बार उस का फोन स्विच औफ मिला. झुंझला कर पल्लवी ने प्रशांत के औफिस में फोन लगाया. उस की पी.ए. को तो कम से कम पता ही होगा कि प्रशांत कहां हैं, किस होटल में ठहरे हैं. औफिस में जिस ने भी फोन उठाया झिझकते हुए बताया कि सर की पी.ए. तो सर के साथ ही मुंबई गई है.

पल्लवी सन्न रह गई. तो इसलिए प्रशांत फोन नहीं उठा रहे थे. रात में और सुबह से ही फोन का स्विच औफ होने का कारण भी यही है. मुंबई के बाद बैंगलुरु फिर हैदराबाद. एक से एक आलीशान होटल और… पल्लवी हर बार कहती कि घर में बच्चे तो हैं नहीं, मैं भी साथ चलती हूं तो प्रशांत बहाना बना देते कि मैं तो दिन भर काम में रहूंगा. रात में भी देर तक मीटिंग चलती रहेगी. तुम कहां तक मेरे पीछे दौड़ोगी? बेकार होटल के कमरे में बैठेबैठे बोर हो जाओगी.

सच ही तो है बीवी की जरूरत ही नहीं है. पी.ए. को साथ ले जाने में ही ज्यादा सुविधा है. दिन भर काम में मदद और रात में बिस्तर में सहूलत. अचानक पल्लवी की आंखों के सामने आपस में हंसीचुहल करते हुए खाना बनाते और  काम करते पीयूष और पारुल के चित्र घूम गए. पहले जिस बात को सुन कर पल्लवी तुच्छता से हंस दी थी आज उसी चित्र की कल्पना कर के उसे ईर्ष्या हो रही थी.

ईर्ष्या, क्षोभ, प्रशांत द्वारा दिया जा रहा धोखा और अपमान सब पल्लवी की आंखों से बहने लगे. क्यों बुलाया पारुल को उस ने? आराम से इस ऐश्वर्य और पैसे से खरीदे गए सुखसाधनों से, अपनेआप को संपन्न, सुखी मान कर सुख से बैठी थी कि पारुल ने आ कर उस के सुख को चूरचूर कर दिया. जीवन में पहली बार पारुल का सुख और चेहरे की चमक देख कर पल्लवी को लगा कि पैसा ही सुख का पर्याय नहीं है.

पारुल के चेहरे को घूरघूर कर पल्लवी दुख की लकीर ढूंढ़ना चाह रही थी. आज उसी चेहरे की चमक देख कर उस के अपने चेहरे पर मायूसी के बादल छा रहे हैं. अब वह पारुल के चेहरे पर नजर डालने की ही इच्छा नहीं कर पा रही है, डर रही है. उस के चेहरे की रोशनी से खुद के मन का अंधेरा और घना न हो जाए.

दोपहर के खाने के बाद दोनों बातें करने बैठीं.

‘‘तुम ने अपनी क्या हालत बना रखी है दीदी? बच्चे होस्टल में, जीजाजी इतनेइतने दिन टूअर पर… पहाड़ सा दिन अकेले कैसे काटती हो?’’ पारुल के चेहरे पर पल्लवी के लिए सचमुच की हमदर्दी थी.

शाम को दोनों फिर घूमने निकल गईं. पल्लवी पारुल को शहर के सब से महंगे बुटीक में ले गई.

‘‘अपने लिए कोई सूट पसंद कर ले,’’ पल्लवी ने कहा.

‘‘बाप रे, यहां तो सारे सूट बहुत महंगे और चमकदमक वाले हैं. मैं ऐसे सूट पहन कर कहां जाऊंगी दीदी. इतनी चमकदमक मेरे प्रोफैशन को सूट नहीं करती,’’ पारुल के स्वर में चमकदमक के लिए तिरस्कार और अपने प्रोफैशन के प्रति स्वाभाविक गर्व का आभास था.

चोट मानो पल्लवी पर ही हुई थी. तब भी पल्लवी ने बहुत कहा पर पारुल मुख्यतया पैसों पर ही अड़ी रही. कहती रही कि यह फुजूलखर्ची है.

‘‘अरी, शादी के बाद पहली बार आई है. पैसों की चिंता मत कर. मैं उपहार दे रही हूं,’’ पल्लवी बोली.

‘‘बात पैसों की नहीं है दीदी. तुम दो या मैं दूं. बात वस्तु के उपयोग की है. बेकार अलमारी में बंद पड़ा रहेगा. अब मैं तुम्हारी तरह हाईफाई बिजनैस पार्टियों में तो जाती नहीं हूं,’’ कह कर पारुल बुटीक से बाहर आ गई.

रात खाना दोनों बाहर ही खा कर आईं. घर लौटते ही पीयूष का फोन आया. सेमिनार खत्म हो चुका है. वह सुबह की फ्लाइट पकड़ कर आ रहा है. उस ने पारुल से भी कहा कि कल ही फ्लाइट से वापस आ जाओ.

‘‘पर तेरा तो परसों रात का रिजर्वेशन है न?’’ पल्लवी ने पूछा.

‘‘उसे मैं कल सुबह कैंसल करवा आऊंगी. 11 बजे की फ्लाइट है. टिकट तो मिल ही जाएगा. एअरपोर्ट पहुंच कर ही ले लूंगी. 2 बजे तक पहुंच जाऊंगी,’’ पारुल के चेहरे की चमक और खुशी दोनों जैसे कई गुना बढ़ गई थीं.

‘‘इतने सालों बाद आई है. ठीक से बात भी नहीं कर पाई और 2 ही दिन में वापस जा रही है. ऐसा भी क्या है कि पीयूष 2 दिन भी नहीं छोड़ सकता तुझे,’’ पल्लवी नाराजगी वाले स्वर में बोली.

‘‘फिर कभी आ जाऊंगी दीदी. बल्कि तुम ही क्यों नहीं आ जाया करतीं. बच्चे दोनों घर पर नहीं हैं और जीजाजी इतनेइतने दिन टूअर पर… उफ, कैसे रहती हो तुम,’’ पारुल के स्वर में सहजता थी. लेकिन पल्लवी को लगा पारुल कटाक्ष कर रही है.

सच ही तो है. ऐसी दीवानगी है एकदूसरे के लिए जैसी पल्लवी ने अपने लिए 4 दिन भी नहीं देखी. दीवानगी नहीं देखी यह बात नहीं है, लेकिन अपने लिए नहीं देखी, देखी है पैसे के लिए. पैसे से खरीदी जा सकने वाली हर चीज के लिए. एक पल्लवी में भी तो दीवानगी बस पैसे के लिए ही रही है. और किसी के लिए भी जीवन में दीवाना हुआ जा सकता है, यह तो पारुल को देख कर पता चला. जो पारुल महज पैसों की खातिर महंगा सूट नहीं खरीद रही थी वह और पीयूष से 2 दिन जल्दी मिमने की खातिर प्लेन से वापस जाने को तैयार हो गई. जो पल्लवी से मिलने व साधारण स्लीपर क्लास में आई थी. यानी पैसा है, लेकिन मनुष्य के लिए पैसा है, पैसे के लिए मनुष्य नहीं है.

जिस शानदार पलंग पर पल्लवी पैर पसार कर निश्चिंत सोती थी, आज उसी पलंग पर मानों वह अंगारों की जलन महसूस कर रही थी. वह यहां अकेली है और वहां प्रशांत के साथ… पैसे से हर सुख नहीं खरीदा जा सकता, कम से कम औरतों के बारे में तो यह बात लागू होती ही है.

उठ कर पल्लवी पता नहीं किस अनजाने आकर्षण में बंध कर पारुल के कमरे की तरफ गई. देखा पलंग के सिरहाने की तरफ रोशनी झिलमिला रही है. अपने पलंग पर औंधी पड़ कर पल्लवी सुबकने लगी. उस का गरूर टूट कर आंखों के रास्ते बहने लगा.

Tags:
COMMENT