आप अपने स्मार्टफोन से दिन भर में किए गए कौल्स और फोटो क्लिक्स के नंबर्स देखेंगे तो जान जायेंगे कि आपका फोन कौल्स से ज्यादा तस्वीरें क्लिक करने में जाया हो रहा है. इस बात पर हम भले ही गौर न करते हों लेकिन स्मार्टफोन्स कंपनियां बराबर नजर रखती हैं कि उनके यूजर्स फोन के किस फीचर का इस्तेमाल सबसे ज्यादा करते हैं. और जब उन्हें पता चलता है कि हम अपने फोन से कौल्स कम और सेल्फियां ज्यादा खींचते हैं, तो वे भी अपने हार्डवेयर में कैमरे को अधिक से अधिक इन्हैंस करने पर जोर देती हैं.

वीजीए से डिजिटल तक

यह सिलसिला पहले मोबाइल कंपनियों द्वारा वीजीए कैमरों से शुरू हुआ और फिर मेगापिक्सल की लड़ाई में तब्दील हो गया. हर कंपनी अपने फोन को ज्यादा से ज्यादा मेगा पिक्सल की क्वालिटी वाले कैमरे के साथ बाजार में उतारती है. मानो वे बात करने की टाकिंग डिवाइस नहीं बल्कि कैमरा बेच रहे हैं. उपभोक्ता भी इसमें रूचि लेता है और इस रुचि के चक्कर में बाजार से डिजिटल कैमरे आउट हो गए.

हर कोई शादी, बारात और बर्थ दे पार्टीज में और ट्रेवल के दौरान मोबाइल से बेहतरीन तस्वीरें निकालने लगा तो डिजिटल कैमरों की जरूरत खत्म हो गयी. सिर्फ बड़े और शाही फंक्शस के लिए DSLR जैसे प्रोफेशनल कैमरे ही अस्तित्व में रह गए.

हालांकि जब से स्‍मार्टफोन्‍स में 2 डुअल रियर कैमरे और 24 मेगापिक्‍सल तक के फ्रंट कैमरे आना शुरु हुए हैं,  तब से लोगों को शानदार तस्‍वीरें लेने के लिए DSLR जैसे प्रोफेशनल कैमरे की याद नहीं आती. पर अगर आपके पास इतने हाईपावर कैमरे वाला स्‍मार्टफोन अबतक नहीं है, तो कोई बात नहीं क्योंकि अब इन की तकनीक पर मोबाइल कंपनियां नजर लगा चुकी हैं. लिहाजा ऐसे स्मार्ट फोन बाजार में उतार रही हैं जो आपके मोबाइल कैमरे को ऐसी पावर देंगी, जिससे DSLR लेवल की तस्‍वीरें खींचना आप‍के लिए हंसी खेल हो जाएगा.

DSLR लेवल के मोबाइल कैमरे

मोबाइल्स में कैमरे को अपग्रेड कर उन्हें नए लेवल पर ले जाने के लिए OnePlus ने कमर कस  ली है. OnePlus 6T के अच्छे रिस्पोंस के बाद अब स्मार्टफोन मेकर कंपनी वनप्लस नए स्मार्टफोन पर काम कर रही है जिसका नाम OnePlus 7 बताया जा रहा है.  इसकी कुछ पिक्स और फीचर इंटनेट पर लीक हो चुके हैं और इन पर भरोसा किया जाये तो वनप्लस 7 में DSLR जैसा कैमरा होगा.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, वनपल्स 7 के कैमरे से आप 10 गुना तक जूम कर पाएंगे और क्वालिटी खराब नहीं होगी. यानी जो काम DSLR जैसे प्रोफेशनल कैमरे करते हैं वही काम यह स्मार्टफोन भी कर सकेगा. इस फीचर के तहत औल-स्क्रीन डिस्प्ले होगी जिसमें किसी भी प्रकार की नौच नहीं दी गई. वनप्लस 7 में फ्रंट कैमरा स्लाइडर मौजूद हो सकता है. इस तरह का सेल्फी कैमरा हम पहले Vivo Nex में देख चुके हैं. भारत में यह स्मार्टफोन करीब 38,990 की कीमत में लौन्च हो सकता है. लेकिन सवाल यही है कि फोन का इस्तेमाल बात करने के लिए हैं या तस्वीरे खींचने के लिए.

जाहिर है सबका जवाब यही होगा कि अगर फोन बात करने के साथ तसवीरें भी अच्छी खींचें तो बुराई क्या है. आजकल तो शौर्ट फिल्म्स और रिपोर्टिंग भी हाई रेजोल्यूशन वाले मोबाइल कैमरों से होने लगी है. लिहाजा कोई भी DSLR जैसे प्रोफेशनल कैमरे का भार नहीं उठाना चाहता. जब पौकेट में कैमरा आ जाए तो किसे चाहिए DSLR. हालांकि प्रोफेशनल फोटोग्राफी अभी भी DSLR पर ही निर्भर है. और मोबाइल्स इस के विकल्प बन सकेंगे, कहना मुश्किल है.

पर हां, इतना जरूर है कि जो अपने मोबाइल कमरों से बेहतर क्वालिटी या कहें DSLR के लेवल की तस्वीरें लेने के लिए Snapseed, Google Camera,  Retrica, Camera 360 Ultimate और Candy Camera जैसी एप्लीकेशंस के भरोसे बैठते थे उन्हें अब अपने फोन में ये फीचर मिल जाएगा.

खुद की ही दुश्मन है तकनीक

तकनीक जैसे-जैसे अपग्रेड होती हैं, अपने पुराने वर्जन्स को लील जाती है. जैसे सांप अपने ज्यादातर अंडों को निगल जाता है, कुछ बच जाते हैं, वैसे ही नई तकनीक पुरानी और आउटडेटेड तकनीक को निगल जाती है. कभी DSLR यानी Digital Single Lens Reflex  रील पर फोटो कैप्चर करने वाले SLR कैमरे की तकनीक को खा गया था. अब इसे कोई और खाने को तैयार है. यह कुछ कुछ लौ औफ नेचर जैसा है. जहां सर्वाइवल चैन बनी है, ऊपर वाला नीचे वाले को खाता है अपने सर्वाइवल के लिए.

Tags:
COMMENT