हर साल अक्टूबर-नवंबर महीने में वायु प्रदूषण सूचकांक में भारी इजाफा होता है. दिल्ली एनसीआर में तो सांस लेना दूभर हो जाता है. इसका प्रमुख कारण बताया जाता है पराली का जलाना. पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में इन्हीं महीनों में धान की फसल की कटाई होती है. फसल कटने के बाद खेत में पराली का जमाव हो जाता है. चूंकि तुरंत किसानों को दूसरी फसल की बुआई करनी होती है इस वजह से उस पर आग लगा देते हैं. जिसके कारण पर्यावरण प्रदूषित होता है.

Tags:
COMMENT