सवाल

मैं 30 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. मैं और मेरे पति अकसर काम से बाहर आयाजाया करते हैं. यही कारण है कि हम अपनी 5 साल की बेटी को मेरी मां यानी उस की नानी के घर छोड़ आते हैं. पहले तो सब ठीक था पर अब मेरी बेटी सिर्फ नानी के पास ही रहती है. वह मेरे पास रहना नहीं चाहती. इतनी छोटी सी उम्र में उस का अपनी मां से ज्यादा किसी और के लिए बिलखना मुझे चिंतित कर देता है. क्या कोई ऐसा तरीका है जिस से मैं उसे अपनी मां के पास छोड़ भी आऊं, तब भी वह मेरी जगह किसी और को न दे.

जवाब

बच्चे मन के सच्चे होते हैं. उन्हें जहां लाड़प्यार व दुलार मिलेगा वे वहीं रहेंगे. आप उसे अपनी मां के पास छोड़ जाती हैं तो उस का उन से लगाव होना लाजिमी है. आप अपनी बच्ची के लिए पहली चौइस बनना चाहती हैं तो उस के लिए आप को फिर से उस का प्यार, भरोसा और दिल जीतना होगा.

ये भी पढ़े- “मेरी पहली शादी एक महीना, दूसरी शादी एक साल और तीसरी शादी 2 साल रही. मैं ने पहली और दूसरी शादी में तो

वह जब भी नानी के घर से आए तो उस के साथ घूमिएफिरिए, उस के साथ खेलिए, उसे अपने हाथ से उस की मनपसंद चीजें बना कर खिलाइए. मां तो मां होती है. जैसा कि और मांएं अपने बच्चों के लिए करती हैं, आप भी वैसा ही कीजिए. आप उसे समय दीजिए धीरधीरे वह अपनी नानी की तरह आप से भी चिपकी रहेगी.

ये भी पढ़े-मेरी पत्नी मुझ पर नामर्दी का आरोप लगा कर अपने प्रेमी के साथ भाग गई है. मेरे पास सरकारी रिपोर्ट है कि मैं नामर्द नहीं 

Tags:
COMMENT