पुलवामा आतंकी हमले में मारे गये 40 जवानों की चिताएं अभी ठंडी भी नहीं पड़ीं, उनके परिजनों के आंसू अभी थमे भी नहीं कि मजदूर दिवस 1 मई के रोज महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों ने ब्लास्ट करके सी-60 के 15 कमांडोज और एक ड्राइवर को मौत की नींद सुला दिया. नक्सलियों ने घात लगा कर कमांडोज को ले जा रही बस को आईईडी ब्लास्ट से उड़ा दिया. करखुड़ा से छह किलोमीटर दूर कोरची मार्ग पर लेंदारी पुल पर यह हमला हुआ. इससे पहले रात में ही नक्सलियों ने यहां एक सड़क निर्माण कम्पनी के करीब 30 वाहनों को आग के हवाले कर दिया था. वाहनों को जलाने के बाद सुरक्षाकर्मियों की गश्त जरूर होगी, इसी साजिश के तहत वाहनों को जलाया गया था. नक्सलियों ने सटीक योजना बनायी थी. वाहनों के जलने की खबर सुनते ही कमांडोज का एक जत्था रवाना कर दिया गया. पहले 60 कमांडोज का जत्था भेजा जाना था, मगर पहली गाड़ी में सिर्फ 15 ही गये और नक्सलियों की आसान सी साजिश का शिकार होकर अपनी जानें गंवा बैठे.

Tags:
COMMENT