चार चरणों के मतदान के बाद अब लोगों की दिलचस्पी इस बात में सिमटती नजर आ रही हैं कि कौन सी पार्टी कितनी सीटें कहां से ले जाकर सरकार बनाएगी. चुनाव का हाल तो गर्भवती बहू जैसा हो गया है जिसकी चाल- ढाल, खान- पान और हाव- भाव देखते घर के बड़े बूढ़े अंदाजा लगाते रहते हैं कि लड़का होगा या फिर लड़की होगी. यही 23 मई को लेकर हो रहा है. सबका अपना-अपना अंदाज हैं कि इस दिन क्या होगा, क्या भाजपा नरेंद्र मोदी के चेहरे और नाम के सहारे अपनी चुनावी नैया पार लगा पाएगी या फिर कांग्रेस उसकी राह में रोड़े अटकाने में कामयाब हो पाएगी. इस बात को लेकर राजनैतिक पंडितों, वैज्ञानिकों, विश्लेषकों और सटोरियों के साथ साथ तोता छाप और ब्रांडेड ज्योतिषों के माथे पर भी बल हैं. यानि कोई दावे या पूरे आत्मविश्वास से यह नहीं कह पा रहा कि 23 तारीख को क्या होगा. यह दिलचस्पी, जैसे जैसे दिन चढ़ते जा रहे हैं, वैसे वैसे रोमांच में बदलती जा रही है. और यही चुनावी लुत्फ भी है कि 23 मई की दोपहर हर कोई यह कहता नजर आए कि देखा...... मैंने तो पहले ही कहा था कि ..... और ऐसा न होता तो बात कुछ और होती.

Tags:
COMMENT