स्पौंडीलोसिस बीमारी मुख्यतया रीढ़ की हड्डी में अकड़न और डीजैनरेशन से होती है. यह बीमारी वर्टिब्रा या कशेरुका के बीच के कुशन यानी इंटरवर्टिबल डिस्क में कैल्शियम के डीजैनरेशन या किसी चोट के कारण होती है. कशेरुका डिस्क के आकार की 33 हड्डियों से बनी होती है. यह बहुत मजबूत होने के साथसाथ लचीली भी होती है जो सिर से ले कर पेड़ू तक काम करती है. यह न सिर्फ कमर को सहारा देती है, बल्कि पूरे शरीर को भी आधार प्रदान करती है. रीढ़ की हड्डी मेरुदंड को लपेटे रहती है जिस में तंत्रिका टिश्यू और दिमाग को आधार देने वाली कोशिकाएं मौजूद होती हैं. हालांकि लगातार कमर पर वजन पड़ने, गलत मुद्रा में बैठने और डाइट में कैल्शियम की कमी के कारण कमर से जुड़े कई विकार हो सकते हैं, जिन में स्पौंडिलोसिस प्रमुख विकार है.

Tags:
COMMENT