लेखक-पिंटू मीणा पहाड़ी सहायक कृषि अधिकारी, सरमथुरा 

आज ज्यादातर किसान मचान और ३जी पद्धति को अपना रहे हैं. हमारे छोटेछोटे प्रयासों से वैज्ञानिक खेती को बढ़ावा मिलता है, तो दिल खुश हो जाता है. गरमियों में अगेती किस्म की बेल वाली सब्जियों को मचान विधि से लगा कर किसान अच्छी उपज पा सकते हैं. इन की नर्सरी तैयार कर के इन की खेती की जा सकती?है. पहले इन सब्जियों की पौध तैयार की जाती है और फिर खेत में जड़ों को बिना नुकसान पहुंचाए रोपण किया जाता है.

इन सब्जियों की पौध तैयार करने से पौधे जल्दी तैयार होते हैं. मचान में लौकी, खीरा, करेला जैसी बेल वाली फसलों की खेती की जा सकती है. मचान विधि से खेती करने से कई फायदे हैं. मचान में खेत में बांस या तार का जाल बना कर सब्जियों की बेल को जमीन से ऊपर पहुंचाया जाता है.

ये भी पढ़ें- जनवरी महीना है खास : करें खेती किसानी से जुड़े जरूरी काम

मचान का इस्तेमाल सब्जी उत्पादक बेल वाली सब्जियों को उगाने में करते हैं. मचान से 90 फीसदी फसल को खराब होने से बचाया जा सकता है. मचान की खेती के रूप में सब्जी उत्पादक करेला, लौकी, खीरा, सेम जैसी फसलों की खेती की जा सकती है. बरसात में मचान की खेती फल को खराब होने से बचाती है. फसल में यदि कोई रोग लगता है, तो दवा छिड़कने में आसानी होती है. मचान के फायदे * गरमी व बरसात के दिनों में फल जमीन से लग कर खराब नहीं होता.

गरमियों के दिनों में बेल की छाया के नीचे धनिए की फसल ले कर दोगुना फायदा कमा सकते हैं.रोग और कीट का प्रकोप बहुत कम हो जाता है.  फल दिखने में बहुत आकर्षक और स्वस्थ रहता है.  फल का बाजार भाव अच्छा मिलता है.  शस्य क्रिया करने में आसानी रहती है.  उत्पादन सामान्य की तुलना में ज्यादा होता है.  इस मचान के नीचे छाया रहने वाली व कम बढ़ने वाली सब्जियों की खेती की जा सकती है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT