अमृतसर में रावण के फूंके जाने को देखने वालों की भीड़ को रेल द्वारा रौंदे जाने के लिए अगर कोई जिम्मेदार है तो धर्म की खातिर पगला गए लोग हैं. ये लोग इस रेल की पटरी पर खड़े रावण को देख रहे थे जिस पर ट्रेनें आतीजाती रहती हैं. फूट रहे पटाखों की आवाज में वे तेज आ रही ट्रेन की सीटियां और आवाज सुन कर पटरी से हट नहीं पाए.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT