एक तरफ कोरोना का संकट, दूसरी तरफ घर से बाहर निकलने पर पाबंदी. वहीं किसानों का दुखड़ा यह कि उन का दुख जाने बिना सरकार ने फसल खरीद की नीति बना दी.

लॉक डाउन खत्म होते ही हरियाणा ने सरसों व गेहूं की फसल खरीदने की तारीख का ऐलान कर दिया है.एक ओर सरसों की फसल खरीद 15 अप्रैल से वहीं गेहूं की फसल खरीद 20 अप्रैल से सरकारी एजेंसियां शुरू करेंगी.

जहां पहले चरण में राज्य सरकार की एजेंसियां केवल छोटे किसानों की फसल खरीदेंगी, वहीं बड़े किसानों को कम से कम एक महीने तक अपनी फसल का भंडारण अपने स्तर पर करना होगा.

ये भी पढ़ें-#coronavirus: परेशान होते पशुपालक ,घट रहे दूध के दाम

सरकार की इस शर्त से किसानों की न सिर्फ भंडारण संबंधी चिंता बढ़ गई है, बल्कि किसान संगठन सरकार के इस फैसले का विरोध करने की तैयारी में हैं.

प्रगतिशील किसान मंच के प्रधान सत्यवीर डागर का कहना है कि सरकार ही किसानों के बीच भेदभाव कर रही है. इस से किसानों के बीच बना सालों पुराना सामाजिक तानाबाना भी प्रभावित होगा.इसलिए किसान भी सरकार की इस फसल खरीद नीति से खुश नहीं हैं.

फसल के भंडारण के नाम पर राज्य सरकार ने किसानों को बोनस देने का भी ऐलान किया है, मगर किसान ऊंट के मुंह में जीरा वाली बात कह रहे हैं.

किसान संगठनों का कहना है कि लॉक डाउन खुलने तक वे सरकार के सामने किसी तरह की समस्या पैदा नहीं करना चाहते, मगर सरकार के पास अभी समय है और इन दिनों में सरकार खरीद की व्यवस्था बना सकती है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT