60 वर्ष की आयु होने पर मैं सेवानिवृत्त हो गया. उस के 3 महीने बाद राज्य सरकार ने आधे वेतन 15 हजार रुपए मासिक पर मुझे पुनर्नियुक्ति प्रदान कर दी और मेरा पदस्थापन मेरे निवास स्थान अजमेर शहर से 100 किलोमीटर दूर मालपुरा में कर दिया.
इस आयु में भी मैं ने कड़ी मेहनत से नौकरी कर 6 माह में 90 हजार रुपए जमा कर लिए, जिस में से 85 हजार रुपए नकद ले कर मैं बैंक में जमा करवाने गया. किसी कारणवश बैंक ने पैसे खाते में जमा करने से इनकार कर दिया. मैं मायूस हो कर बैंक से बाहर निकल आया.

घर लौटने के लिए अपनी बाइक के हैंडिल पर पैसों का बैग लटका कर मैं बाइक स्टार्ट करने ही वाला था कि मेरी जेब में रखे मोबाइल पर किसी का फोन आ गया. मैं बातें करने में व्यस्त था कि तभी सामने से एक लड़का आया और बोला, ‘‘बाबूजी, आप की जेब से पैसे गिर गए हैं.’’

मैं ने देखा तो मेरे दाएं पैर के पास 10-10 के 3 नोट पड़े थे. मैं ने सोचा कि जेब से मोबाइल निकालते समय नोट मेरी जेब से गिर गए होंगे.

मेरी अक्ल पर पत्थर पड़ गए और उस लड़के की बातों में आ कर जैसे ही मैं उन नोटों को उठाने के लिए झुका और नोट जेब में रखने लगा तभी मेरी निगाह बाइक के हैंडिल पर पड़ी. देखा तो मेरा बैग और वह लड़का दोनों ही गायब थे. मुशर्रफ खान मेव, अजमेर (राज.)

मेरे पिताजी की मृत्यु हुई तो मैं ने एक प्रतिष्ठित दैनिक के राजस्थान संस्करण में शोक संदेश प्रकाशित करवाया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT