सरिता विशेष

बौलीवुड में चर्चाएं गर्म हैं कि इस बार अपनी फिल्म ‘‘उड़ता पंजाब’’ को लेकर जिस तरह का पंगा अनुराग कश्यप ने लिया है, उससे लगता है कि उनकी मुश्किलें लगातार बढ़ती ही जाने वाली हैं. सूत्रों की माने तो ‘उड़ता पंजाब’ को लेकर मुंबई हाईकोर्ट का निर्णय चाहे जो रहे, पर अनुराग की मुसीबतें कम होंगी, ऐसा नहीं लगता.

सूत्रों के अनुसार अनुराग अपनी सफलतम फिल्म ‘‘गैंग आफ वासेपुर’’का तीसरा भाग ‘‘गैंग आफ वासेपुर 1.5’’ का निर्माण करने जा रहे हैं. जिसके निर्देशन की जिम्मेदारी अनुराग ने ‘‘गैंग आफ वासेपुर भाग एक व दो’’ के लेखक तथा मूलतः वासेपुर निवासी जीशान कादरी को सौंपी है. इस फिल्म की शूटिंग बहुत जल्द झारखंड में धनबाद जिले के वासेपुर में ही शुरू होनी है. पर अब वासेपुर से जो खबरें मिल रही हैं, वह अनुराग के पक्ष में नहीं हैं.

सूत्रों के अनुसार इस बार अनुराग कश्यप के लिए ‘‘गैंग आफ वासेपुर 1.5’’ की शूटिंग वासेपुर  में करना आसान नहीं होगा. सूत्रों के अनुसार वासेपुर में अनुराग का विरोध शुरू हो गया है. वासेपुर निवासियों के अनुसार अनुराग ‘गैंग आफ वासेपुर’ भाग एक व दो से जितना वासेपुर को बदनाम करना चाहते थे, वह कर चुके, पर अब उन्हे आगे ऐसा नहीं करने दिया जाएगा और अब किसी भी सूरत में तीसरे भाग की शूटिंग नहीं करने दी जाएगी.

सूत्रों की माने तो जीशान कादरी के घर के सामने प्रदर्शन का दौर शुरू हो चुका है. जबकि जीशान कादरी अब लोगों को समझाने में लगे हुए हैं कि लोगों को फिल्म को फिल्म की तरह ही लेना चाहिए, जबकि यही जीशान कादरी ‘गैंग अफ वासेपुर’ भाग एक और दो को यथार्थ का दर्शन बताते रहे हैं. सूत्रों की माने तो वासेपुर के पढ़े लिखे लोग लामबंद हो चुके हैं, जो कि अनुराग कश्यप के लिए कई तरह क मुसीबतें खड़ी कर सकते हैं.