सरिता विशेष

पिछले दिनों जौन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे देश में रेप और अत्याचार के मामले बढ़े हैं, जिसका असर हर दिन सुर्खियों में दिखता है, इसकी वजह है हमारी कानून व्यवस्था का कमजोर होना, जिसमें अपराधी आसानी से छूट जाते हैं या फिर कानून को फैसला सुनाने में सालों लग जाते हैं. इसके लिए हमरे सिस्टम और कानून व्यवस्था को मजबूत होने की जरुरत है साथ ही सजा भी तुरंत होनी चाहिए, ताकि अपराधी को डर हो और कोई भी ऐसा काम करने से वे डरे.

असल में ये वारदात तब ज्यादा किसी को आघात पहुंचाती है, जब ये वाकया उसके साथ हो. मुझे भी इसका अनुभव हुआ है, क्योंकि मेरे ड्राईवर की बहन की 12 साल की बेटी को हरियाणा से किडनैप कर लिया गया है जिसका अभी तक कुछ अता-पता नहीं है. पुलिस अभी पूछताछ कर रही है ऐसे में डर ये होता है कि वे लोग उसके साथ क्या करेंगे या तो रेप कर छोड़ देंगे, मर्डर कर देंगे या सेक्स वर्कर बना देंगे और इसका असर इतना मुझ पर हुआ है कि मैं पिछले कुछ दिनों से सोया नहीं हूं. मैं कोशिश कर रहा हूं कि बच्ची बच जाये.

इसके आगे जौन कहते हैं कि रेपिस्ट को मृत्यु दंड मिलना चाहिए, क्योंकि ये सबसे बड़ा अपराध है. रेपिस्ट को जेल के अंदर के अपराधी भी पसंद नहीं करते, उसे वहां भी मार दिया जाता है. अगर रेपिस्ट को मरने का डर नहीं होगा, तो वे ऐसा करते रहेंगे. जब आप एक माइनर का रेप करते है, तो अपने आपको कैसे माफ कर सकते हैं ये मुझे समझ में नहीं आता. इसके लिए हर महिला और पुरुष को खड़े होने की जरुरत है. तभी कुछ सही हो सकता है.