वैसे तो यह बात खुद में अटपटी लगती है कि आप को मई-जून की झुलसती गरमी में रेगिस्तानी राजस्थान की गुलाबी राजधानी जयपुर में घूमने-फिरने के मकसद से जाने की सलाह दी जाए लेकिन अगर कभी ऐसा होता है और आप आमेर किले के आसपास हैं तो वहां के छोटे-बड़े रेस्टोरेंटों में यह जरूर पूछ लें कि रात का खाना मिल जाएगा या नहीं.

यह बात बचकानी जरूर लगती है, पर ऐसा ही कुछ हमारे साथ हुआ. दरअसल, हाल ही में मेरा अपने बचपन के कुछ दोस्तों के साथ जयपुर जाना हुआ. हमारा रिसोर्ट आमेर किले से महज 2 किलोमीटर दूर था. शाम को जयपुर की मशहूर झील जलमहल देखने के बाद वहीं उस के सामने बने किसी रेस्टोरेंट में हमारा खाना खाने का प्लान था.

ऐसे ही जानकारी के लिए एक रेस्टोरेंट में घुसे तो पता चला कि गरमी में वहां शाम के 5-6 बजे तक ही खाना परोसा जाता है. जब इस की वजह जाननी चाही तो पता चला कि टूरिस्ट न के बराबर होने की वजह से वे लोग डिनर नहीं बनाते हैं. हम सब थोड़ा चकराए पर अगले रेस्टोरेंट में भी यही जवाब मिला. वहां के मैनेजर ने बताया कि झील पर भी आसपास के लोकल लोग ही ज्यादा आते हैं जो वहीं झील पर हल्के-फुल्के स्नैक्स खा कर घर चले जाते हैं.

रात का खाना न मिलने की बात सुन कर थोड़ा अचंभा लगा, फिर सोचा कि अपने रिसोर्ट के पास किसी सस्ते रेस्टोरेंट को खंगालते हैं. हालांकि हमारे रिसोर्ट में डिनर का पूरा इंतजाम था, पर जब यह मामला सामने आया तो यह जानने की जिज्ञासा बढ़ गई कि ऐसा होता क्यों है?

एक और रेस्टोरेंट में गए तो भीतर एकदम सुनसान. तभी एक लड़का बाहर रोड से भीतर आया और बोला कि आप को अंदर आते देख कर मैं बाहर से आया हूं, नहीं तो घर चला गया होता. वह कम उम्र का लड़का उस रेस्टोरेंट को संभालता था. डिनर के बारे में पूछने पर उस ने भी वही रामकहानी बताई. साथ में एक और कारण बताया कि आमेर किले के आसपास ज्यादातर विदेशी सैलानी जब सीजन में आ कर आसपास के होटलों में ठहरते हैं, तब ये रेस्टोरेंट गुलजार हो जाते हैं. यह सीजन बारिश के बाद या सितंबर महीने से शुरू होता है और मार्च महीने तक रहता है. छोटे ढाबों पर खाने को मिल जाता है पर रेस्टोरेंट तो जैसे रात को उजाड़ हो जाते हैं.

उस लड़के ने बताया कि आगे एक और रेस्टोरेंट है, शायद वहां कुछ खाने को मिल जाए. लेकिन जवाब तो उस नए रेस्टोरेंट भी यही मिला था पर उस आदमी ने कहा कि अगर आप रात को पक्का मेरे यहां खाना खाने आओगे तो मैं उसी समय दालरोटी और पनीर की सब्जी बनवा सकता हूं. चावल भी मिल जाएंगे. लेकिन रात के 10 बजे से पहले आना होगा.

एक रेस्टोरेंट से रात के खाने के बारे में हां में जवाब मिलना हमारे लिए बड़ी राहत की बात थी. हम रात को 10 बजे से पहले उस रेस्टोरेंट में पहुंचे और यकीन मानिए रसोई में 3 आदमियों ने बस हम 4 लोगों के लिए खाना बनाया था.

एडिट बाय- निशा राय…

Tags:
COMMENT