जीवन सारा सिसक रहा है,

देखो नेता चहक रहा है।

नहीं खाली कोई शमशाना,
भर गए सब कब्रिस्ताना।
जनकवि कोरोनादास कहते हैं
सारा जीवन ही सिसक रहा है।
हर एक दिशा में दर्द मार्केट में बिक रहा है।
इन सिसकियों के बीच ही नेता
अपने वोटों की फसल को देखकर
चहक रहा है।
होटल में जीवन महक रहा है।
नेता लोग खेलत खेला,
लगा शवों का बड़ा झमेला।
अस्पताल सब हुए कोरोना,
हवा-दवा का रोना-धोना।
हर जगह शव बसरे पड़े हैं।
गलियों में, चौबारे में! बागों में, बहारों में!
मैं आऊं, आजा... गीत शव गा रहे हैं।
अस्पतालों को खुद कोरोना हो गया है। अस्पताल खुद वेंटिलेटर पर पड़े तड़पड़ा रहे हैं। दवा की काली-पीली लाल-बाजारी चल रही है।
प्राण वायु की बड़ी मारामारी चल रही है।
 नेता लोग अपना खेला खेल रहे हैं
जनता पर झमेला पेल रहे हैं।
बजटाती गीत कोरोना गाए,
बात-बात में बजट बढ़ाते जाए।
हवा-दवा दलाल कुटते पैसा,
मरण-मसान खेलते भैसा
बीते माह साल भर रीते,
नां ही रागिनी नां ही गीते।
तड़प सिसकता जीवन सारा,
प्राण हुआ कोरोना मारा।
--- रामविलास जांगिड़,18, उत्तम नगर, घूघरा, अजमेर (305023) राजस्थान

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...