आज बाहर काफी तेज़ बरसात हो रही है. उमड़घुमड़ कर आते मेघों को देख कर निमिषा का मन घबरा रहा है. बारिश का मौसम उसे पसंद नहीं. सब तरफ छाई घटा, दिन में भी उजाले की जगह अंधियारा और शोर मचाती बरखा बूंदें. पता नहीं लोगों को इस मौसम में क्या पसंद आता है. उसे तो लगता है कि परिवार के सभी सदस्य घर पर सुरक्षित लौट आएं. मुदित तो आ गए हैं, चाय भी पी ली. अब विहा भी आ जाए तो उस की जान में जान आए.

विहा के घर में क़दम रखते ही निमिषा ने पुकारा, "विहा, आज का खराब मौसम देख कर मेरी चिंता बढ़ती जा रही थी. ऐसे में थोड़ी जल्दी निकल आया कर क्लास से.”

ये भी पढ़ें-सच्ची सीख : नीरा अपने बेटे किशोर पर क्यों नाराजगी दिखा रही थी

"आप भी कमाल करती हो, मां. जिस मौसम को दुनिया बेहतरीन कहती है, उसे आप खराब कह रही हो," विहा कंधे उचका कर बोली.

"अच्छा चल, अब चायनाश्ता कर ले. मैं ने कब से तैयारी कर रखी है," निमिषा रसोई में चली गई. वहीं से आवाज़ दे कर बोली, "आज तेरे मामा जी का फोन आया था. फिर वही बात कि विहा किस चीज़ में इंजीनियरिंग कर रही है.”

"पता नहीं उन्हें कब समझ आएगी मेरी स्ट्रीम," विहा हंसने लगी.

"उन्हें क्या दोष दूं, वे तो मुझ से 10 साल बड़े हैं, तेरी स्ट्रीम तो मुझे भी समझ नहीं आती," जीभ काटते हुए निमिशा ने कहा.

ये भी पढ़ें- लेनदेन : सादिया लंबे सफर के बाद लौटी तो ससुराल में क्या देखा

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT