27 वर्षीया कोमल एक बड़ी कंपनी में प्रोडक्ट मैनेजर है. मुंबई की लोकल ट्रेन में प्रतिदिन सफर करती है. ड्रैस कोड पर उस के विचार पूछने पर कहती है, ‘‘हमारी जनरेशन फैशन ट्रैंड्स फौलो करना चाहती है, कपड़ों का चयन निजी फ्रीडम व निजी सोच पर निर्भर करता है. कितना बोरिंग हो जाएगा जब  सब पूरे दिन रोज एक ही तरह के कपड़ों में दिखेंगे. अपने दोस्तों से कोई लुकिंग गुड नहीं सुन पाएगा.

Tags:
COMMENT