सवाल

मेरी उम्र 26 साल है. मेरा एक दोस्त था जिसे मैं कुछ ही समय से जानती थी. वह लड़का मेरा बहुत करीबी नहीं था लेकिन ठीकठाक दोस्त था. मुझे समझ नहीं आता कि कौन सी बेवकूफी मेरे दिमाग पर छाई हुई थी जो मैं ने उसे अपने ईमेल अकाउंट का पासवर्ड दे दिया. अब वह लड़का मेरे ईमेल से मेरी बाकी सभी जानकारी एकत्र कर मुझे और मेरे परिवार को परेशान कर रहा है. मुझे समझ नहीं आ रहा कि इस स्थिति में मैं क्या करूं?

ये भी पढ़ें- बच्चे ढंग से बात नहीं करना चाहते, मैं क्या करूं?

जवाब

घरपरिवार को भी अपने किसी पर्सनल अकाउंट का पासवर्ड नहीं देना चाहिए. आप ने बाहरी व्यक्ति को अपना पासवर्ड दे दिया. तो सब से पहले आप अपना पासवर्ड चेंज कर लें. चेंज करने के लिए ईमेल पर यूजरनेम लिखें और ‘फोरगेट पासवर्ड’ पर क्लिक करें. आप से मोबाइल नंबर मांगा जाएगा. अपना मोबाइल नंबर लिख दें. आप के मोबाइल पर ओटीपी नंबर आएगा, उसे साइट पर लिख दें. फिर अपना नया पासवर्ड लिखें. आप का पासवर्ड चेंज हो जाएगा.

ये भी पढ़ें- मेरी बेटी अरेंज मैरिज में विश्वास नहीं करती, मेैं क्या करूं?

उस के बाद अपने परिवार से बात करें. उन्हें सबकुछ सचसच बता दें. अगर कोई भी पर्सनल बात यदि उस ने परिवार को बता दिया है, तो आप उस बात को ले कर घरवालों को कन्विंस करें कि जो भी उस ने बताया है वह गलत है. उस ने सच भी बताया है तो घरवालों के सामने यह स्वीकार भी करें. निश्चिततौर पर आप के मातापिता या भाईबहन जो भी परिवार में हों इस बात को समझेंगे. आगे से कभी भी अपना पासवर्ड किसी को न बताएं, इस बात का खयाल रखें.

Tags:
COMMENT