अगर किसी के दिमाग में आम लोगों के प्रति जन्म से ही घृणा भरी हो और दुर्भाग्य से उसे तमाम व्यवहारिक बातों की जानकारी या समझ भी न हो तो यह स्थिति उसे ‘करेले में नीम’ चढ़ने वाली बना देती है. 11 फरवरी 2020 को सुबह 10:30 बजे के आसपास जैसे ही दिल्ली विधानसभा चुनाव नतीजों का रूझान करीब-करीब स्थिर हुआ और यह माना जाने लगा कि तीसरी बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी जबरदस्त बहुमत हासिल करने जा रही है, उसी समय से सोशल मीडिया में दिल्ली के मतदाताओं के लिए लोगों की घृणा और खिसियाहट उबलने लगी. कहा जाने लगा कि दिल्ली के मतदाता भिखारी हैं, मुफ्तखोर हैं. उन्होंने अरविंद केजरीवाल को तीसरी बार इसलिए बहुमत से चुनाव जिताया है; क्योंकि उन्हें हराम की सुविधाओं की लत लग गई है. सोशल मीडिया में जुगुप्सा और व्यंग्य से बिलबिलाती ऐसी पोस्टों की बाढ़ आ गई. इनका सिलसिला इन पंक्तियों के लिखे जाने तक भी जारी है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT