मोदी सरकार में वित्त मंत्री रह चुके वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली 9 अगस्त 2019 से दिल्ली के अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान में इलाज करा रहे थे. 9 अगस्त को सांस लेने में समस्या के कारण उन्हें एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उन्हें आईसीयू में रखा गया था. स्थिति में सुधार ना होने से 66 वर्षीय अरुण जेटली की शनिवार 24 अगस्त को मौत हो गई. जेटली का पिछले वर्ष किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था. उनके बाएं पैर में सौफ्ट टिशू सर्कोमा नामक कैंसर था. जिसके सर्जरी के लिए वह इसी साल जनवरी में न्यूयौर्क गए थे. जहां से, मई में भाजपा के दुबारा सत्ता में आने के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बधाई दी. जेटली ने अपने राजनीतिक मौकों के लिए आभार जताया और स्वास्थ्य कारणों से नई सरकार में किसी भी नई जिम्मेदारी को ना लेने की गुजारिश की.

Tags:
COMMENT