आजमगढ़ लोकसभा चुनाव को लेकर भोजपुरी के गायक दो अलग अलग खेमे में बंट गये हैं. उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल इलाके और बिहार में भोजपुरी गाने और फिल्में जनमानस का हिस्सा हो गई हैं. ज्यादातर भोजपुरी के गायक ही भोजपुरी फिल्मों के हीरो भी बनते हैं और सफल भी होते हैं. भोजपुरी फिल्मों में जातीय आधार पर एक खेमेबंदी रही है. पहले यहां पर सवर्ण विरादरी का प्रभाव था पर दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ के आने के बाद पिछड़ी जातियों के कलाकारों ने भोजपुरी फिल्मों पर अपना प्रभाव जमाना शुरू किया उसके बाद एक के बाद एक कलाकार और गायक यहां पर पिछडी जातियों के उभरे. इनमें दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ के भाई विजय लाल यादव के अलावा खेसारी लाल यादव, प्रवेश लाल यादव जैसे कलाकार प्रमुख हैं.

Tags:
COMMENT