एक तरफ कोरोना वायरस की चपेट में ज्यादा लोग न आएं, अपने घरों में ही रहें, बाहर कम से कम निकलें, इस को ले कर केंद्र सरकार के साथ साथ राज्य सरकार भी अपने कठोर फैसले में लौकडाउन से ले कर कर्फ्यू लगा रही है, वहीं शाहीन बाग में एनआरसी व सीएए के विरोध में पुरुषों व औरतों के धरने पर बैठने से पुलिस की सिरदर्दी बढ़ती जा रही थी. आखिरकार पुलिस ने 24 तारीख की सुबह तकरीबन 7 बजे जबरन शाहीन बाग में धरना वाली जगह खाली करा ली.

15 दिसंबर, 2019 से ले कर 24 मार्च, 2020 तक यानी 100 दिनों तक चला यह प्रदर्शन आखिर इस तरह खत्म होगा, किसी ने सोचा नहीं था. यहां तक कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दखल भी दिया. पर धरना प्रदर्शन जारी रहा.

ये भी पढ़ें-#coronavirus: Lock Down के दौरान दिहाड़ी मजदूरों तक कैसे पहुंचेगा

पुलिस की दखल से आखिरकार दिल्ली और नोएडा को जोड़ने वाली इस सड़क पर लगे टेंट को जबरन उखाड़ फेंका गया.

इधर तो कोरोना वायरस के चलते दिल्ली समेत पूरा भारत लॉकडाउन है, कई राज्यों ने तो 31 मार्च तक के लिए कर्फ्यू लगा दिया है. इस दौरान मैट्रो पूरी तरह से बंद हैं, वहीं बसें, आटो टैक्सी, ट्रेनों तक के पहिए रुके हुए हैं. स्थिति ऐसी है कि जो जहां हैं वहीं रहे वाली है. बावजूद इस के महिलाएं धरना देने के लिए जुटने लगीं.

ऐसा देख पहले तो पुलिस ने बताया कि यहां पर धारा 144 लगी हुई है, धरना न दें और अपने घरों को जाएं.

पुलिस के समझाने पर भी प्रदर्शन करने वाले नहीं हटे तो वहां से उन्हें जबरिया हटाया और टेंट उखाड़ दिया गया. साथ ही, 10 से 12 प्रदर्शन करने वालों को हिरासत में लिया गया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT