धीरे धीरे ही सही पर भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र सरकार की तानाशाही के खिलाफ अब नेताओं में विरोध के स्वर उभरने लगे है. विरोधी नेताओं की मुश्किल यह है कि इनको मीडिया या दूसरे प्रचारतंत्र से सहयोग नहीं मिलता. विरोधी नेताओं के भाजपा पर आरोप से अधिक जगह भाजपा नेताओं की सफाई और आरोप प्रत्यारोप को दे दिया जाता है. विरोधी दलों के पास अपना खुद का भी मजबूत संगठन नहीं है जिसके जरीये यह अपनी बात को जनता तक पहुंचा सके.

सोशल मीडिया पर अभी भी विरोधी नेताओं को उनके बयानों को लेकर तोड़ मरोड़ कर ‘ट्रोल’ करने वाली हालत बनी हुई है. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा के खिलाफ आवाज उठाई हैं. परेशानी की बात यह है कि अखिलेश यादव को लगता है कि जब प्रदेशवासी भाजपा से नाराज होकर वोट करेगे तो सपा की वैसे ही सरकार बन जायेगी. ऐसे में वह अपने संगठन पर ध्यान नहीं दे रहे. इस बात को लेकर बसपा नेता मायावती भी अखिलेश को सीख दे चुकी हैं.

ये भी पढ़ें- साध्वी प्रज्ञा की नजर में तंत्र मंत्र से हो रहीं भाजपा नेताओं की मौतें

अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव के बाद कहा कि भाजपा के लोग ईडी, सीबीआई और आयकर विभाग की मदद से भय का महौल बनाकर लोकतंत्र चलाना चाहते है. देश की संस्थाओं को नियंत्रित करना कोई भाजपा से सीख सकता है. भाजपा भय और नफरत फैलाकर देश को चलाना चाहती है. चुनाव को जीतने के लिये आपस में नफरत पैदा की. केन्द्र और प्रदेश सरकार दोनो ही भ्रष्टाचार, विकास, कानून व्यवस्था के मसले पर पूरी तरह से फेल हो चुकी है. अपराध की हालत इतनी बिगड गई है कि उत्तर प्रदेश हत्या प्रदेश बन गया है. बुलंन्दशहर हिंसा में इंसपेक्टर की जान लेने वालो की जमानत होने पर स्वागत और सम्मान किया जाता है. एटा में पति को मुठभेड में मारने का डर दिखाकर  महिला से बलात्कार किया गया.

उत्तर प्रदेश के किसानों की हालत पर चर्चा करते अखिलेश यादव ने कहा कि ‘देश और प्रदेश दोनो नाजुक दौर से गुजर रहा है. किसानों की हालत खराब है. महंगाई बढ़ने और खेती में नुकसान होने से किसान जान देने को मजबूर है. उत्तर प्रदेश इंवेस्टरर्स समिट में रोजगार के 70 लाख अवसर देने की बात हुई थी लेकिन सच्चाई यह है कि कोई निवेश करने नहीं आया. जब देश में ही निवेष नहीं हो रहा तो प्रदेश में निवेश कैसे होगा ? अर्थव्यवस्था चरमराने से रोजगार का संकट पैदा हो गया है. देश की मुद्रा की हालत यह है कि बंगलादेश की मुद्रा भारत की मुद्रा से मजबूत हो गई है. बिगड़ते हालत बता रहे है कि मेक इन इंडिया फ्लौप शो हो गया है.

अखिलेश यादव अपने पार्टी संगठन को नये सिरे से मजबूत करने की योजना में है. प्रदेश में होने वाले उपचुनाव के बाद वह नये तेवर में दिखेगे. जानकार लोग यह भी मानते है कि अखिलेश अभी भी भाजपा की सीधी और तीखी आलोचना से बचना चाहते हैं. केवल अखिलेश यादव ही नहीं देश के दूसरे विरोधी नेता चिदंबरम कांड के बाद सकते में हैं. ऐसे में वह विरोध करते हुये भी अपने स्वर को बेहद संतुलित रखना चाहते हैं. अखिलेश यादव के भय और नफरत की बात में भी चिदंबरम कांड की टीस दिखती है.

ये भी पढ़ें- नोटबंदी और इंस्पेक्टर राज आर्थिक मंदी के सबसे बड़े कारण

Tags:
COMMENT