देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या 2 लाख से अधिक जा पहुंचा है और अब तो हजारों की संख्या में रोज नए मामले सामने आ रहे हैं. सरकार ने हाथ खङे कर दिए और जनता के पास ताली और थाली बजाने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है.

देश में जब कोरोना से लगभग 1 हजार लोग पीङित थे तो तालाबंदी थी, सब बंद था। अब 2 लाख से अधिक पीङित हो गए तो सब खोल दिया.

आखिर क्यों बंद किया और फिर क्यों खोल दिया? सरकार की योजना तब क्या थी और अब क्या है? यह पूछने की गलती शायद ही कोई करे. ऐसा कोई करेगा तो उस पर गद्दार का तमगा लग सकता है. राष्ट्रभक्ति का प्रमाण मांगा जा सकता है.

इसलिए, जनता जनार्दनो, अब तो वाकई में आप ताली ही बजाओ क्योंकि यही प्रभु इच्छा है और यही आप का नसीब भी.

ये भी पढ़ें-प्रकृति की कद्र करें

पूछोगे तो फंसोगे

देश में जब कोरोना का अलर्ट जारी हुआ था, तब सरकार ने आदेश दिया था कि एअरपोर्ट पर हर किसी को स्क्रीनिंग से गुजरना होगा.

पर यह विडंबना ही है कि लाखों लोग देश में आए मगर स्क्रीनिंग हुआ आधा से भी कम, परिणाम अब पूरा देश देख भुगत रहा है.

मगर चूंकि सरकार मजबूत है, पूर्ण बहुमत में है और कङा फैसला लेती है तो यह पूछने की भी जहमत कौन उठाए कि ऐसा क्यों किया? वैसा क्यों किया?

सरकार कुछ भी फैसला करे आप सिर्फ ताली ही बजाइए, शंख फूंकिए या फिर घंटी टनटनाइए.

देश में करोड़ों मजदूर बदहाली में हैं, लाखों भूखेप्यासे ही सो रहे हैं। जब सब बंद था तो मजदूरों की स्थिति पर सिर्फ राजनीतिक रोटियां ही सेंकी गईं, सोशल मीडिया जैसे प्लैटफार्म पर संवेदनाएं जाहिर की गईं. मगर किया किसी सरकार ने कुछ भी नहीं. मगर यह भी कोई पूछने की गलती नहीं करिएगा, क्योंकि सरकार बहुमत में है और मजबूत है और जनता बेचारी तो पहले भी कमजोर थी और आज भी है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...