शहरी लाइफस्टाइल, फास्टफूड का अत्यधिक इस्तेमाल, स्ट्रेस नींद ना आने के प्रमुख कारणों में से एक होते हैं. ये समस्या लोगों को इतना अधिक प्रभावित करती है कि लोग नींद की दावाइयों को लेने के लिए मजबूर हो जाते हैं. शुरुआती समय में तो ये गोलियां लोगों को सुकून देती हैं, पर लंबे वक्त के लिए इनका सेवन सेहत पर काफी बुरा असर डालता है.

क्या होता है असर

हाल ही में हुई एक स्टडी की माने तो लंबे समय तक इन गोलियों का सेवन करने से आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है. स्पेन की एक युनिवर्सिटी में हुए शोध के मुताबिक नियमित तौर पर नींद की गोलियों का सेवन करना बुढ़ापे में हाई ब्लड प्रेशर के खतरे को और बढ़ा देता है.

ये भी पढ़ें : स्वस्थ स्तनों के लिए इन चीजों को अपनी डाइट में करें शामिल

कौन हैं सैंपल

इस स्टडी को करने के लिए शोधकर्ताओं ने तनाव और हाई ब्लड प्रेशर से ग्रस्त करीब 750 लोगों को शामिल किया. स्टडी के दौरान पाया गया कि करीब 156 लोगों ने एंटीहाइपरटेंसिव दवाइयों की संख्या में वृद्धि की. इससे नींद की अवधि या क्वालिटी और एंटीहाइपरटेन्सिव ड्रग के उपयोग में परिवर्तन के बीच कोई संबंध नहीं पाया गया.

ये भी पढ़ें :  स्मोकिंग करने वालों को है सोराइसिस का खतरा

क्या कहना है जानकारों का

शोधकर्ताओं का कहना है कि नींद की गोलियों का सेवन भविष्य में उच्च रक्तचाप के इलाज की आवश्यकता और अनहेल्दी लाइफस्टाइल की ओर संकेत करता है, जो उच्च रक्तचाप के लिए जिम्मेदार हो सकता है.

Tags:
COMMENT