हवा का प्रदूषण दुनिया में होने वाली मौतों के प्रमुख कारणों में से एक बन गया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू.एच.ओ.) का अनुमान है कि लगभग 4.2 मिलियन समयपूर्व मौतें दुनिया में आसपास की हवा के प्रदूषण की वजह से हुई हैं. भारत भी वायु प्रदूषण का शिकार है और यहां पर ब्रोंकायल अस्थमा, हाईपर-रिएक्टिव एयरवे डिज़ीज़, एलर्जिक राईनिटिस एवं अन्य कई समस्याओं में तेजी से वृद्धि हुई है.

Tags:
COMMENT