“मेरा बेटा  टेक्निकल इंजीनियर बनेगा वो मोबाइल फोन पर फोटो गैलरी, म्यूजिक सभी चीजें आसानी से चला लेता है वो महज तीन साल का है ” ये कहते हुए मां को बड़ा गर्व होता है और फ़ोन बेटे के हाथ में थमा देती है.

क्या आप भी ऐसा ही कर रही हैं, यदि हां तो जरा ठहरिये क्योंकि आप उसका भविष्य संवार नहीं बल्कि बिगाड़ रही हैं. क्योंकि मोबाइल फोन की लत उनकी आंखों के लिये घातक साबित हो सकती हैं. एक  रिसर्च के दौरान पाया गया है कि स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाले बच्चो में आई स्ट्रोक और आंखें टेढ़ी होने का खतरा बढ़ जाता है. दुनिया भर में दो करोड़ से भी ज्यादा लोग इससे पीड़ित हैं.

क्या होता है आई स्ट्रोक

जिस तरह दिमाग में स्ट्रोक होता है उसी तरह आई स्ट्रोक होता है. इसमें रक्त का संचार रुक जाता है और रेटिना तक नहीं पहुंच पाता जिस कारण आई स्ट्रोक होता है. रेटिना ऊतकों की एक पतली परत है, जो देखने में मदद करती है. रक्त का संचार अवरुद्ध होने से रेटिना को पर्याप्त मात्रा में औक्सीजन नहीं मिल पाता. जिस  वजह से कुछ मिनटों या घंटों में कोशिकाएं मरने लगती हैं. आई स्ट्रोक से दृष्टि काफी कमजोर हो जाती है या कभी कभी पूरी तरह दिखना भी बंद  हो जाता है.

लगातार बढ़ रहा है चश्मे का नंबर

मोबाइल फोन, लैपटौप और टैब पर लगातार नजरे गढ़ाए रहने से बच्चों की आंखों पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है. जिस कारण बच्चों की दूर की नजर कमजोर हो रही हैं.
बच्चे टीवी,फोन देखते समय पलके नहीं झपकाते और एक टक देखते रहते हैं. जिस वजह से उनकी आंखों से पानी आने लगता है. लगातार नजदीक से देखने के कारण आंखों पर जोर पड़ता है. आंखों में रूखापन आने लगता है और धीरे धीरे उनकी नजर  कमजोर व आंखें टेढ़ी होने लगती हैं.

ये भी पढ़ें- जानें क्या है कैंसर ट्रेन ?

आंखें हो रही है कमजोर

चिकित्सकों का मानना है कि आंखें दूर और नजदीक की चीजें देखने में भी सक्षम होती हैं. लगातार नजदीक का देखने से बच्चों की आंखें नजदीक की चीजें देखने की आदी हो रही हैं. इससे दूर की नजर कमजोर हो रही हैं. बच्चों को इन इलेक्ट्रौनिक उपकरणों की चपेट में आने से बचाने के लिए उन्हें रोजाना कम से कम एक घंटा बाहर के लिए बिताने को प्रोत्साहित करना चाहिए.

कैसे करें बचाव

बच्चे को दिन भर में महज एक घंटा ही टीवी या कभी कभी फोन देखने को दें हो सके तो फोन को पूरी तरह दूर ही रखें.

बच्चों के सामने पेरेंट्स भी फोन का प्रयोग कम ही करें.

आंखें शरीर का बेहद कोमल अंग हैं इसलिए इनकी सही से देखभाल करना जरूरी है. सुबह उठने और रात को सोने से पहले बंद आंखों पर पानी के छींटे मारें. इससे आंखों को आराम मिलेगा.

लगातार कंप्यूटर पर काम करने के बाद दूर नजर दें और पांच से 10 सेंकेंड के लिए आंखें बंद करें.व  पलकें पूरी झपकाएं.

जलन होने और पानी बहने की स्थिति में आखों को मलें नहीं बल्कि नजदीकी नेत्ररोग विशेषज्ञ से जांच करवाएं.

ये भी पढ़ें- जानिए, क्यों लगती है बार बार भूख ?

Tags:
COMMENT