बचपन में दादी के मुख से सुनते थे कि मछली खा कर कभी दूध नहीं पीना चाहिए. कभी फल खाने के बाद पानी पी लो तो दादी की डांट पड़ती थी. कई भारतीय व्यंजन हैं जिनके साथ खाने पर पाबंदी है. कहते हैं इससे विभिन्न रोग शरीर को लग जाते हैं. हम स्वादिष्ट खाना खाते हैं और कोशिश करते हैं कि उसमें सभी पोषक तत्व भी मौजूद हों, लेकिन कई बार हम जाने-अनजाने में ऐसी चीजें एकसाथ खा लेते हैं जो कि हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता और जिसके कारण हम अनेकों बीमारियों के शिकार हो जाते हैं. जिन खाद्य पदार्थों के साथ खाने पर पाबंदी है वे ‘विरुद्ध आहार’ कहलाते हैं. यानी दो ऐसी खाने की चीजें जिनकी प्रकृति अलग-अलग होती है, उन्हें विरुद्ध आहार की श्रेणी में रखा गया है. होटलों में ऐसी बहुत सी चीजें खाने को मिलती हैं जो विरुद्ध आहार के अंतर्गत आती हैं, मगर जानकारी के अभाव में हम उन्हें खाते हैं और रोगों का शिकार होते हैं.

आइए जानते हैं कि कौन-कौन सी वे चीजें हैं जो विरुद्ध आहार के अंतर्गत आती हैं

  • दूध और दूध से बने पदार्थ जैसे कि दही, छाछ इत्यादि को अगर हम नींबू, कटहल या खट्टे पदार्थों के साथ खाते हैं तो यह विरुद्ध आहार होता है. आमधारणा यह है कि दुबलेपन से छुटकारा पाने के लिए केला-दूध खाओ, लेकिन यह जानकारी कम ही लोगों को है कि केला और दूध विरुद्ध आहार हैं. इन्हें कभी भी साथ नहीं खाना चाहिए. प्याज, कटहल, खट्टे पदार्थ, मीट-मछली और जूस जैसी चीजें दूध के साथ लेना विरुद्ध आहार के अंतर्गत आता हैं.

ये भी पढ़ें- फेफड़ों की समस्याओं से राहत के लिए फायदेमंद है होम्योपैथी इलाज

  • हमें दही के साथ भी केला और अन्य फल नहीं खाने चाहिए. इनका आपस में मेल नहीं होता और हम पेट की कई बीमारियों के शिकार बन जाते हैं. इससे एसिडिटी, कब्ज, जलन, गैस, चक्कर आना जैसे रोग शरीर को घेर लेते हैं. दही और फल विरुद्ध आहार हैं. दही और फलों में अलग-अलग एंजाइम होते हैं. इस कारण वे पच नहीं पाते, इसलिए दोनों को साथ लेने की सलाह नहीं दी जाती है. दही के साथ खजूर खाना भी हानिकारक होता है. दही की तासीर ठंडी है. उसे किसी भी गर्म चीज के साथ नहीं लेना चाहिए. मछली की तासीर काफी गर्म होती है, इसलिए उसे दही के साथ नहीं खाना चाहिए. परांठे या पूरी जैसी तली-भुनी चीजों के साथ भी दही नहीं खाना चाहिए क्योंकि दही फैट के डाइजेशन में रुकावट पैदा करता है.
  • अधिकतर लोग शराब, बीयर और कोल्ड ड्रिंक के साथ नमकीन पदार्थों का सेवन करते हैं. लेकिन यह भी सेहत के लिए ठीक नहीं होता और इससे लूज मोशन, पेट खराब होना, चक्कर आना जैसी बीमारियां होती हैं.
  • खीरा और टमाटर भी हम सलाद में एक साथ खा लेते हैं. लेकिन आपने महसूस किया होगा कि इससे हमारा पेट भारी-भारी सा हो जाता है. इसलिए इन दोनों को हमें अलग-अलग ही खाना चाहिए. इसी तरह से गाजर के साथ नींबू का प्रयोग वर्जित है. इससे पेशाब सम्बन्धी बीमारियां हो जाती हैं.
  • शहद को कभी गर्म करके नहीं खाना चाहिए. चढ़ते हुए बुखार में भी शहद का सेवन नहीं करना चाहिए. इससे शरीर में पित्त बढ़ता है. शहद और मक्खन एक साथ नहीं खाना चाहिए. घी और शहद कभी साथ में नहीं खाना चाहिए. यहां तक कि पानी में मिलाकर भी शहद और घी का सेवन नुकसानदेह हो सकता है.शहद के साथ कभी भी मूली या घी, मक्खन, तेल जैसी चीजें जिन्हें हम गर्म करते हैं, नहीं खानी चाहिए.

ये भी पढ़ें- सर्दियों के मौसम में ऐसे बनाएं अपना डायटचार्ट

  • तरबूज, खरबूजे को खाने के बाद भूल कर भी पानी नहीं पीना चाहिए. इससे हैजा, अपच, लूज मोशन हो सकते हैं. फलों के सेवन के तुरंत बाद पानी पीना वर्जित है. अमरूद, खीरा, जामुन और मूंगफली के बाद तो भूल कर पानी न पियें.
  • कुछ ऐसे फल हैं जो साथ खाए जाएं तो नुकसान पहुंचाते हैं. जैसे संतरा और केला एक साथ नहीं खाना चाहिए क्योंकि खट्टे फल मीठे फलों से निकलने वाली शुगर के पाचन में रुकावट पैदा करते हैं, जिससे अपच की शिकायत पैदा हो जाती है. इन फलों को साथ खाने से फलों की पौष्टिकता भी कम हो जाती है.
  • मछली और अंडे के साथ दूध, दही कभी नहीं खानी चाहिए. मांस को तिल के तेल में कभी नहीं पकाना चाहिए. इसके अलावा मांसाहारी चीजों के साथ हमें मैदे वाली चीजें भी नहीं खानी चाहिए. इससे मोटापा, डायबिटीज, गैस इत्यादि बीमारियां हमारे शरीर में उत्पन्न हो जाती हैं. मछली के साथ काली मिर्च नहीं खानी चाहिए. मछली खाने के बाद काली मिर्च खाने से नुकसान हो सकता है.
  • हमें गर्म और ठंडी चीजें भी एक साथ नहीं खानी चाहिए. जिस तरह से चाय के तुरंत बाद आइसक्रीम का खाना, कोल्ड ड्रिंक का पीना विरुद्ध आहार कहलाता है.
  • तिल के साथ पालक का सेवन नहीं करना चाहिए. यही नहीं तिल के तेल में कभी भूलकर भी पालक न बनाएं. ऐसा करने से डायरिया हो सकता है.
  • 10 दिन तक कांसे के बर्तन में रखे घी को नहीं खाना चाहिए.
  • पीली छतरी वाले मशरूम सरसों के तेल में नहीं पकाने चाहिए.
  • दूध की बनी खीर के साथ सत्तू, शराब, खटाई और कठहल नहीं खाना चाहिए.
  • चावल के साथ सिरका नहीं खाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- क्या मोटापा आप को बोझ लगने लगा है

विरुद्ध आहार को हमेशा ध्यान में रखें. हम जो भी खाएं संतुलित और स्वादिष्ट खाएं और अपने शरीर की प्रकृति के अनुसार ही खाएं तभी हम अपने आप को दीघार्यु तक निरोगी और स्वस्थ बनाए रख सकते हैं.

Tags:
COMMENT