लेखक-आरएस सैंगर

आमतौर पर हम गन्ने और खजूर के रस से बने गुड़ के बारे में ही जानते हैं, लेकिन कर्नाटक के इस किसान द्वारा किए गए प्रयोग के बाद अब बाजार में तरबूज के रस से बना गुड़ मिले, तो आप को ताज्जुब नहीं करना चाहिए. कर्नाटक के शिवमोगा जिले के रहने वाले किसान जयराम नगैय्या शेट्टी पहले मुंबई में होटल चलाया करते थे. लौकडाउन के दौरान वे अपने घर लौटे और होटल के कर्मचारियों के साथ मिल कर तरबूज की खेती करने लगे. इस बार उन्होंने उस रस से गुड़ बनाया है. उन के इस प्रयोग से इलाके के किसान काफी प्रभावित हो रहे हैं. उन्होंने 3 एकड़ जमीन पर तरबूज की खेती की थी.

लेकिन उचित दाम नहीं मिलने के कारण वे इसे बेच नहीं रहे थे. उन्होंने सोचा कि पैदावार को नष्ट करने के बजाय कुछ अलग आजमाना चाहिए. यहीं से प्रेरणा ले कर उन्होंने तरबूज के रस से गुड़ का उत्पादन कर दिया. उन के पास इस समय 200 किलोग्राम गुड़ है, जिसे वे लोगों में मुफ्त में बांट रहे हैं. कम भाव मिल रहा था, इसलिए बना डाला गुड़ एक अखबार की खबर के मुताबिक, जयराम नगैय्या शेट्टी ने बताया कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लौकडाउन के बाद उन्होंने अपना होटल बंद कर दिया. खाली समय में उन्होंने तरबूज की खेती करने की सोची.

ये भी पढ़ें- घर आंगन में उगाएं सहजन

3 एकड़ में तरबूज लगाया. फसल तैयार होने के बाद बाजार में इस की कीमत एक रुपए प्रति किलोग्राम मिल रही थी, जबकि पिछले साल कीमत 4 रुपए थी. वे कहते हैं कि उन्होंने तय किया कि वे तरबूज को नहीं बेचेंगे, क्योंकि इस बार खुद से मंडी ले जा कर बेचना पड़ता. एक तो कीमत कम मिल रही थी और ऊपर से ट्रांसपोर्ट का खर्चा अलग से. शिवमोगा जिले में केरल के व्यापारी आ कर तरबूज की खरीद करते थे. लेकिन लौकडाउन के कारण वे नहीं आए और किसानों के लिए यह परेशानी का सबब बन गया. उन्होंने बताया कि उन का 8 टन तरबूज सड़ जाता, इसलिए उन्होंने इस से गुड़ बनाने का निर्णय लिया. अपने होटल में वे पहले भी एक बार तरबूज के रस से गुड़ बना चुके थे.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT