प्रधानमंत्री का राष्ट्र के नाम संदेश का खौफ जनता पर कुछ इस कदर छाया है कि ‘जनता कर्फ्यू‘ की घोषणा के बाद बाजार में खरीददारों की ऐसी भीड बढ गई जैसे नोट बंदी की घोषणा के बाद बैंक के एटीएम के बाहर रात में ही लंबी लबी लाइने लग गई थी. इस भीड पर करोना का नहीं लौक डाउन का खौफ सिर चढ कर बोल रहा था.

जैसे ही इस बात का पता लोगों को चला कि 19 मार्च की रात 8 बजे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्र के नाम संदेश देगे अफवाहों का बाजार गर्म हो गया. इस बात की अफवाह फैल गई कि देश में अचानक ‘लौक डाउन‘ होने वाला है. इस बात से बाजारों में जमाखोरी शुरू होने लगी. प्रधानमंत्री के संदेश के पहले प्रसार भारती के सीईओ को यह मैसेज जारी करना पडा कि किसी तरह के लौक डाउन की घोषणा नही होनी है. इस खबर के बाद बाजार में खरीददारी पर कुछ रोक लगी पर रात 8 बजे प्रधानमंत्री के द्वारा 22 मार्च को ‘जनता कर्फ्यू‘ की घोषणा होते ही रात में ही अनाज और सब्जी की मंडियों में खरीददारों की वैसे ही लाइनें लग गई जैसे ‘नोटबंदी’ के बाद बैंक के एटीएम के बाहर लग गई थी.

प्रधानमंत्री के राष्ट्र के नाम संदेश और रात 8 बजे के समय का खौफ अपने में किसी से कम नहीं है. देश के लोगों को लगा कि जिस तरह से नोटबंदी और दूसरे मामले अचानक सामने आ गये वैसे ही अचानक कुछ समय के लिये देश में ‘लौक डाउन‘ का फैसला लिया जा सकता है. ऐसे में जरूरत के सामानों की ज्यादा खरीददारी होने लगी. यह देखते ही देखते दुकानदारों ने बाजार से सामान गायब कर दिया और बाद भी वही सामान मंहगे दामों में बिकने लगा. प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में कहा कि देश की जरूरी सेवायें ठप्प नहीं की जायेगी. इसके बाद भी बाजार के जमाखोरो ने अपना काम जारी रखा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT