प्रियंका चोपड़ा ने अरविंद अदिगा की किताब ‘‘द व्हाइट टाइगर’’ को पढ़ा था, तभी से इसकी तारीफ करती रही हैं. अब वह उसी किताब पर‘‘नेटफ्लिक्स’’ के लिए बन रही फिल्म में राज कुमार राव के साथ प्रियंका चोपड़ा अभिनय करने वाली हैं. इस बात की नई घोषणा ‘नेटफ्लिक्स’’ ने आज एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर की है. मजेदार बात यह है कि प्रियंका चोपड़ा जोनस स्वयं इस फिल्म का मुकुल देवड़ा के साथ मिलकर सह निर्माण भी करेंगी. फिल्म का निर्देशन हौलीवुड फिल्म ‘‘फारेनहाइट 451’’के निर्देशक रामिन बाहरानी करेंगी. इस फिल्म में आदर्श गौरव भी अहम किरदार निभाएंगे.

मशहूर ईरानियन अमरीकन निर्देशक रामिन बहरानी 2005 से अब तक करीबन आठ फिल्मों का लेखन व निर्देशन कर चुके हैं. उनकी हर फिल्म ने तमाम अवार्ड हासिल किए. प्रियंका चोपड़ा जोनस ने एक बयान जारी कर कहा है- ‘‘जब मैंने अरविंद की इस किताब को पढ़ा, तो इसकी मार्मिक कहानी मेरे दिल को छू गयी थी. मैं तो बहुत रोमांचित हो गयी थी. यह कहानी कच्ची महत्वाकांक्षा और अपने लक्ष्य को पाने के लिए किसी भी हद तक जाने की है.इस कहानी की सिनेमाई प्रस्तुति के लिए मैं ‘नेटफ्लिक्स’ और रामिन बहारानी के साथ काम करने को लेकर अति उत्साहित हूं. मैं पहली बार राज कुमार राव के साथ काम करने को लेकर भी उत्साहित हूं. हम अगले माह यानी कि अक्टूबर माह से भारत में इस फिल्म की शूटिंग करेंगे.’’

ये भी पढ़ें- ‘‘प्रसार भारती’’ की कार्यशैली को अनूप जलोटा भी नही बदल पाए!

वैसे ‘‘नेटफ्लिक्स’’ ने अप्रैल 2018 में ही रामिन बाहरानी के निर्देशन में इस फिल्म के बनने की घोषणा की थी. उस वक्त रमानी बाहरानी ने कहा था- ‘‘मैं इसे सिर्फ भारतीय नहीं बल्कि सार्वभौमिक कहानी मानता हूं और मेरी राय में विश्व का हर इंसान इस कहानी व इसके किरदार के साथ खुद को जुड़ा पाएंगे. इस उपन्यास में भी ‘लौयन’ और ‘स्लमडौग मिलेनियर’ फिल्मों की ही तरह भारतीय पृष्ठभूमि में सामाजिक मुद्दों की खोज की गयी है. एक व्यक्ति की व्यक्तिगत कहानी में पूरे देश का दायरा समाहित होता है. अमीर व गरीब की अवधारणा वैश्विक है.’’

RAMIN-BAHRANI

जबकि राज कुमार राव कहते हैं- ‘‘मैं खुद को भाग्यशली समझता हूं कि मैंने बौलीवुड में उस वक्त कदम रखा है,जब कलाकार को रोमांचक काम करने का अवसर मिल रहा है. मैं एक अंतरराष्ट्रीय फिल्म ‘द व्हाइट टाइगर’ का हिस्सा बनने को लेकर अति उत्साहित हूं. मैं तो निर्देशक रामिन के काम का भी प्रशंसक रहा हूं.’’

उधर लेखक व निर्देशक रामिन बाहरानी ने बयान जारी कर कहा है- ‘‘मैं पिछले एक दशक से अरविंद अदिगा की किताब ‘‘द व्हाइट टाइगर’’ पर फिल्म बनाना चाहता था. मेरी यह ख्वाहिश अब नेटफ्लिक्स, प्रियंका चोपड़ा और मुकुल देवड़ा के प्रयासों के चलते पूरी होने जा रही है.’’

ज्ञातब्य है कि उपन्यासकार अरविंद अदिगा और निर्देशक रामिन बाहरानी एक साथ कोलंबिया विश्वविद्यालय में सहपाठी थे. रमानी के अनुसार अरविंद ने इस उपन्यास के कुछ पन्ने उनके घर में ही लिखे थे. कौलेज के बाद भी यह दोनों अच्छे दोस्त बने हुए हैं.

‘‘द व्हाइट टाइगर’’ की कहानी एक चाय बेचने वाले इंसान की है,जो कि एक दिन न सिर्फ बहुत बड़ा उद्योगपति बनता है, बल्कि दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत भी बनता है. पर इस बीच उसकी अपनी एक अति कठिन संघर्ष यात्रा भी है. मूलतः भारतीय लेखक अरविंद अदिगा का अंग्रेजी भाषा का ‘‘द व्हाइट टाइगर’’ पहला उपन्यास है, जो कि 2008 में प्रकाशित हुआ था. और इसी वर्ष इसे चालिसवें ‘‘मैन बूकर प्राइज’’ से नवाजा गया था. इसमें वैश्विक स्तर पर विश्व में भारत के वर्ग संघर्ष का हास्यप्रद चित्रण है. यह लकहानी है एक गांव के लड़के बलराम हलवाई की है. उसे अपनी चचेरी बहन के दहेज की रकम को चुकाने के लिए पढ़ाई छोड़कर अपने भाई के साथ धनबाद में एक चाय की दुकान में काम करना पड़ता है. चाय बनाते बनाते वह ग्रहकों की आपसी बातचीत से भारत सरकार की अर्थव्यवस्था को समझने का प्रयास करता है. समय निकालकर ड्रायविंग भी सीखता है.फिर वह दिल्ली आता है, जहां वह अपने ही गांव के जमींदार/अमीर इंसान की कार का ड्रायवर बन जाता है. दिल्ली में ही सरकारी तंत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार तथा गरीब व अमीर के बीच के भेद को समझता है. उसे एक अति कटु अनुभव से गुजरना पड़ता है, जिसके चलते वह एक दिन अपने मालिक की हत्या व उसके पैसे चुराकर बंगलौर पहुंचता है. बंगलौर में एक पुलिस अधिकारी को घूस देकर वह अपना टैक्सी का व्यापार शुरू करता है. अंततः एक दिन वह बहुत बड़ा उद्यमी बन जाता है. इस डार्क उपन्यास में जाति,धर्म और वफादारी ,भ्रष्टाचार व गरीबी जैसे कई मुद्दे उठाए गए हैं. इसमें बलराम के माध्यम से आजादी को लेकर भी सवाल उठाए गए हैं.

ये भी पढ़ें- फिल्म ‘पहलवान’ के एक्टर अपने कमाई का 40 प्रतिशत हिस्सा खर्च करते हैं इन कामों में

उपन्यासकार अरविद अदिगा दूसरे कम उम्र के चर्चित उपन्यासकार हैं. न्यूयार्क टाइम्स ने उनके उपन्यास को बेस्ट सेलर कहा. वैसे प्रियंका चोपड़ा जोनस, ‘‘नेटफिलक्स’’ के लिए फिल्म ‘‘वी कैन बी हीरोज’’ के अलावा एक अनाम भारतीय फिल्म कर रही हैं. जबकि दीवाली के अवसर पर प्रियंका चोपड़ा की हिंदी फिल्म ‘‘स्काय इज द पिंक’’ प्रदर्शित होने वाली है.

Tags:
COMMENT