देश की आजादी के 73 वर्ष बाद,21 वीं सदी में भी हमारे देश में बाल विवाह,भू्रण हत्या सहित कई कुरीतियां और औरतों के मासिक धर्म को लेकर कई तरह की भ्रांतियां  फैली हुई हैं.इन पर अंकुश  लगाने के सरकारी कानून भी असफल सा नजर आ रहे हैं.तो वहीं कुछ युवा इन सभी अपने अपने स्तर पर अपने गांव या छोटे शहरों में गलत भ्रातियों व कुरीतियों के लिए लड़ाई लड़कर जागरूकता लाने का काम भी कर रहे हैं.मगर इनके पास सीमित साधन हैं.ऐसे ही युवा सामज सेवियों की सफलता व इनके कर्म की कहानियों को प्रसारित कर पूरे देश की युवा पीढ़ी तक पहुॅचाते हुए युवा पीढ़ी के बीच जागरूकता लाने के मकसद से देश की दक्षिण एशिया की मशहूर आडियो संगीत स्ट्ीमिंग सर्विस ‘‘जियो सावन’’ और नेहा धूपिया के प्रोडक्षन हाउस ‘‘बिग गर्ल प्रोडक्षंस’’के पाॅडकास्ट ‘‘नो फिल्टर नेहा’’( #NoFilterNeha )के पांचवे सीजन से सेव द चिल्ड्रन की ड्रीम एक्सीलरेटर पहल के साथ जुड़कर एक नई पहल शुरू की है.जिसका नाम है ‘‘नो फिल्टर नेहा केअर्स’’ (#NFNCares ). यह पहल उन बच्चों के साथ भागीदारी को मजबूत करने पर केन्द्रित है,जो बच्चे सशक्त हैं और सामाजिक बदलाव के लिए स्वतंत्र परियोजनाओं पर काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- Naagin 5- शरद मल्होत्रा की जगह लेंगे धीरज धूपर, सुरभि के साथ करेंगे रोमांस

इसके माध्यम से ‘सेव द चिल्ड्रन’के साथ भागीदारी में यह नया ऑडियो शो यंग लीडर्स को आगे लाएगा.हमेशा की तरह अपनी दमदार कहानियों और बेहतरीन बातचीत के साथ #NFNCares का लक्ष्य श्रोताओं को आगे आने और इन लोगों को सहयोग देने के लिये प्रोत्साहित करना है.#NFNCares देशभर में बदलाव के युवा चैम्पियंस की कहानियों को सामने लाने पर फोकस करता है. ऐसे बच्चों से बात करेंगी,जो अपनी क्षमता से समाज में बदलाव लेकर आए हैं,उनके द्वारा मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों को तोड़ने से लेकर गांवों में बाल विवाह रोकने तक और ऐसे कई काम किए गए हैं.जियोसावन के यूजर्स और इस शो के प्रशंसक एप पर रुछथ्छब्ंतमे बैनर को टैप कर इस नेक कार्य में दान देकर पहल में भाग ले सकते हैं.
इस संबंध में ‘सेव द चिल्ड्रन’ की कैम्पेन हेड प्रज्ञा वत्स ने कहा-‘‘बच्चों के सपनों को पंख देने के हमारे प्रयास में हम नेहा धूपिया और जियो सावन का साथ पाकर उत्साहित है.हमारी ड्रीम एक्सीलरेटर पहल बदलाव लाने वाले युवाओं के साथ भागीदारी करती है,उन्हें सशक्त और प्रेरित करती है, ताकि उनका बदलाव प्रभावी हो.हम उनमें निवेश कर और उनकी आवाज को बुलंद कर बदलाव लाने वालों की एक नई पीढ़ी बना सकते हैं,जो सबसे वंचित समुदायों का प्रतिनिधित्व करे #NFNCares के साथ हर किसी के पास भारत के भविष्य के लीडर्स केसपनों को गति देने का मौका है.’’
ये भी पढ़ें- ‘गुड्डन तुमसे ना हो पाएगा’ की एक्ट्रेस ने धूमधाम से मनाया जन्मदिन, मिला
इस नई पहल की चर्चा करते हुए नेहा धूपिया कहती हैं-‘‘यह पहल सकारात्मक विकास में योगदान देने का हमारा तरीका है.बच्चे देश का भविष्य हैं और उनके दिमाग में ताजगी होती है.इसलिए वह बेहतर कल के लिए अच्छा काम कर सकते हैं. हमारा मानना है कि ‘सेव द चिल्ड्रन’ की ‘ड्रीम एक्सीलरेटर’पहल के साथ जुड़कर हम इन बच्चों को उनके गंतव्य तक पहुँचाने में अपना योगदान दे रहे हैं.हम सभी जानते हैं कि भारत के 12 राज्यों और विश्व के 120 देशों में ‘सेव द चिल्ड्रन’’(ूूूwww-savethechildren.in dरता है. पाॅंच सीजनों मंे ‘‘नो  फिल्टर नेहा’’ (#NoFilterNeha ) को मजबूती से सहयोग देने वाले श्रोताओं से मेरा आग्रह है कि वह भी अपना योगदान दें और अच्छे भविष्य के लिये मिलकर काम करें.मेरी ओर से यह आश्वासन है कि ‘नो फिल्टर नेहा’ ( #NoFilterNeha ) में कोई फिल्टर मीटर नहीं होगा!’’
जियो सावन में कम्युनिकेशंस और सस्टेनेबिलिटी की लीड लाइजेल नोरोन्हा ने कहा-‘‘जियोसावन में हम अपने लाखों यूजर्स के लिये आशा से भरी और अनोखी आवाजों और कहानियों को आगे लाने में अपनी भूमिका निभाते हैं.‘एनएफएनकेअर्स(   रुछथ्छब्ंतमे) के माध्यम से हमारे देश में सामाजिक बदलाव के पाँच नन्हे चैम्पियंस और चेंजमेकर्स की व्यक्तिगत कोशिशों पर चर्चा होगी. हमें इस अनूठी पहल के लिए नेहा और सेव द चिल्ड्रन के साथ काम करके खुशी हो रही है.’’
ये भी पढ़ें- काजल अग्रवाल ने शादी के ऐलान से पहले दोस्तों संग मनाई बैचलर पार्टी,
फिलहाल पॉडकास्ट में निम्न लोग आने वाले हैं
1-मुंबई की गोवंडी क्षेत्र में बसी झुग्गी बस्ती में रह रही सलेहा देश में मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों को तोड़ने के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं.उनकी कहानी भारत के 11 राज्यों से आने वाले बदलाव के चेंजमेकर्स पर एक नई किताब ‘वी आर द चैम्पियंस’ की 15 कहानियों में शामिल है.
2-बच्चों के अधिकारों के लिए लड़ने वाले षैलेंद्र राजस्थान के टोंक जिले के अपने गांव में बालविवाहों को रोका और बच्चों को बालश्रम से मुक्ति दिलाई है।उन्होंने स्कूलों में शारीरिक दंड का निडरता से विरोध किया है और बच्चों को पढ़ाई जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया है.
3-दैनिक वेतनभोगी मजदूरों और कुशल कर्मियों के परिवार से आने वाली फरहाना ने लॉकडाउन के दौरान अपने समुदाय को भूख से बचाने के लिए अपने जैसे बच्चों के ग्रुप के साथ सफल कार्य किया.
4-हरियाणा से बुलंद उड़ान की लीडर अंजू अब तक 700 से ज्यादा बच्चों का स्कूलों में नामांकन कराने क ेअलावा कई बाल विवाह रोके हैं.अंजू ने यौन शोषण के मामलों में भी दखल दिया और कन्या भ्रूण हत्याएं रोकीं.न केवल एक सफल सामाजिक कार्यकर्ता हैं,बल्कि एक टेडएक्स स्पीकर भी हैं.
ये भी पढ़ें- अजय देवगन के भाई अनिल देवगन का निधन, कलाकारों ने दी श्रद्धांजलि
5-सार्वजनिक और सरकारी वकालत में प्रशिक्षित अजहरूद्दीन ने झुग्गियों में रहने वाले समुदायों की समस्याओं को आवाज दी है.उन्होंने अम्फान चक्रवात और कोविड-19 संकट के दौरान आगे रहकर काम किया.
सुनिये #NoFilterNeha सीजन पांच केवल जियोसावन परःNFN Cares

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT