भारतीय सिनेमा इस बात का गवाह है कि सिनेमा या फिल्म की शूटिंग की पृष्ठभूमि पर या उससे जुड़ी कहानी पर बनी फिल्में बाक्स आफिस पर औंधे मुंह गिरती रही हैं. इसी कड़ी में असफलता का नया रिकार्ड गढ़ने वाली फिल्म है-‘‘तेरी भाभी है पगले’’. जी हां! फिल्म का नाम देखकर हास्य की कल्पना करने वाले दर्शकों को यह फिल्म देखकर निराशा के अलावा कुछ भी हासिल नहीं होने वाला. बेसिर पैर की कहानी, बेसिर पैर के घटनाक्रम और अति घटिया तरीके से उठाया गया फिल्म पायरेसी का मुद्दा फिल्म को अति नीरस व उबाउ ही बनाता है.

COMMENT