बायोपिक फिल्मों की ही कड़ी का हिस्सा है फिल्म ‘‘सूरमा’’, जो कि फ्लिकर सिंह के रूप में मशहूर अर्जुन अवार्ड विजेता हौकी खिलाड़ी संदीप सिंह की बायोपिक फिल्म है. इसमें संदीप सिंह के करियर के उतार चढ़ाव व उनके संघर्ष को ही ज्यादा अहमियत दी गयी है.

फिल्म ‘‘सूरमा’’ की कहानी हौकी खिलाड़ी संदीप सिंह के पैतृक गांव पंजाब के शाहाबाद से शुरू होती है. इसी गांव में संदीप सिंह (दिलजीत सिंह) अपने भाई विक्रम सिंह (अंगद बेदी), अपने माता व पिता (सतीष कौशिक) व ताऊ के साथ रहता है. दोनों भाई बचपन से ही हौकी खेलते हैं. मगर हौकी कोच (दानिश हुसेन) की पिटाई से बचने के लिए संदीप सिंह हौकी खेलना बंद कर देता है. उसके ताऊजी उसे अपने खेतों पर ले जाकर उससे चिड़िया भगाने के लिए कहते हैं. चिड़ियों को भगाने के लिए संदीप सिंह आखिरकार हौकी का बैट ही उठा लेता है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT