बौलीवुड की चुलबुली अदाकारा आलिया भट्ट धीरेधीरे शीर्ष अभिनेत्रियों की सूची में शामिल हो ही रही थीं कि इसी बीच उन की रिलीज हुई फिल्म ‘शानदार’ बौक्स औफिस पर औंधे मुंह जा गिरी. इस फिल्म में आलिया ने अपनी भूमिका को सीरियसली नहीं लिया. प्रमोशन के दौरान भी जो बातें उन से पूछी जातीं, उन्हें मजाक में टाल जातीं. इस से लगने लगा कि उन के इस व्यवहार की वजह उन की पहले की फिल्मों की सफलता है. कामयाबी उन के सिर चढ़ कर बोल रही है. एक इवेंट के दौरान आलिया भट्ट से मुलाकात होने पर उन के अफेयर और शादी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया, ‘‘शादी करने की सही उम्र 32-33 वर्ष है और मैं इस उम्र से अभी काफी दूर हूं. मैं शादी में छोटी गैदरिंग चाहती हूं और वह ग्रीस में हो. मेरी शादी मेरे हिसाब से ही होगी. रही बात मेरे अफेयर की तो फिलहाल मेरा किसी से कोई अफेयर नहीं है.’’

आलिया ने बहुत कम उम्र में सफलता पाई है, जिसे ले कर वे बहुत खुश हैं. लेकिन इस बात से उन्हें डर भी लगता है. वे कहती हैं, ‘‘मैं ने स्कूल में हर रेस को जीता है. केवल एक रेस हारी थी. चौथी कक्षा में जब मैं ने रेस हारी, तो मैं बहुत रोई थी. टीचर से कहासुनी भी हो गई थी. मैं फेस्यर को सहन नहीं कर सकती. मैं जीत को महत्त्व देती हूं.’’

आलिया को कैरियर में तो कामयाबी मिली है पर दूसरे क्षेत्रों में नाकामयाबी हाथ लगी है. वे सीरियस हो कर कहती हैं, ‘‘मैं एक रोमांटिक लड़की हूं. बहुत इमोशनल और सैंसिटिव भी हूं. मुझे हर काम नंबर वन पर अच्छा लगता है. लव लाइफ में मैं ने बहुत असफलता फेस की है. मगर उस से मुझे शक्ति मिली. अगर गिरोगे नहीं तो उठोगे कैसे? इस सोच को मैं हमेशा अपने पास रखती हूं. मैं अभी अपने कैरियर पर फोकस्ड हूं. इस दौरान अगर कुछ गलत भी करती हूं, तो उसे हमेशा पीछे छोड़ कर आगे बढ़ जाना चाहती हूं. यह मेरी कमजोरी और शक्ति दोनों हैं.’’

आलिया हमेशा सोचसमझ कर फिल्में चुनती हैं पर कई बार उन का चुनाव गलत भी हो जाता है. फलस्वरूप तनाव होता है. तनाव को कम करने के लिए वे अपने परिवार का सहयोग लेती हैं. वे कहती हैं, ‘‘मेरे परिवार में मेरी मौम मेरी सपोर्ट सिस्टम हैं. खानापीना, पहनना सब कुछ उन का रहता है. वे साइलैंट सपोर्टर हैं. जब मैं तनाव में आती हूं तो उन्हें या अपनी बहन को एक मैसेज छोड़ देती हूं कि मैं तनावग्रस्त हूं. सभी चुप हो जाते हैं. कुछ नहीं पूछते. मेरी मां हर रात मेरे लिए काजूमिल्क बनाती हैं, जो मुझे रिलैक्स करता है. अगर आप फिल्मी परिवार से नहीं हैं तो आप इस तनाव को समझ नहीं सकते. फिल्म साइन करना और अभिनय करना ही केवल काम नहीं होता. सब कुछ देखना पड़ता है. प्रमोशन, दर्शकों की पसंदनापसंद सब कुछ जानना आवश्यक है और मैं यह सब खुद देखती हूं.’’

आलिया भट्ट अलग घर में रहने वाली हैं, जिसे उन्होंने अपनी कमाई से खरीदा है. परिवार से अलग रहने की बात पर वे कहती हैं, ‘‘मेरे मातापिता मेरे इस कदम को सराहते हैं कि मैं सैल्फ डिपैंड हूं. घर खरीदने की वजह अधिक जगह का होना है. मेरे कपड़े ओवरफ्लो हो रहे थे. घर पर तैयार नहीं हो पाती थी. मेरी बहन रात को सोती नहीं. वह नींद संबंधी विकार की शिकार है, इसलिए दिन में सोती है. मैं उसे डिस्टर्ब नहीं करती. मेरा घर मेरे पिता के घर से मात्र 100 गज की दूरी पर है. अभी मुझे चिता हो रही है कि मैं पूरे घर को कैसे संभालूंगी.’’

आलिया को आज भी अपना बचपन याद है जब उन्हें केवल क्व50 पौकेट मनी में महीना निकालना पड़ता था. फिल्म ‘स्टूडैंट औफ द ईयर’ की सफलता के बाद जब उन्हें पहली पेमैंट मिली तो उस से उन्होंने अपने पिता के फार्महाउस में अपने नाम से स्विमिंग पूल बनवाया. वे युवा पीढ़ी से कहती हैं कि यह समय उस के आगे बढ़ने का है. लड़का हो या लड़की हर कोई अपनी प्रतिभा को जाने. उसे करना क्या है और फिर उसी हिसाब से आगे बढ़े तो यकीनन सफलता मिलेगी. केवल ग्लैमर वर्ल्ड को देख कर इस में कदम न रखें. अगर प्रतिभा है तभी प्रशिक्षण ले कर इस क्षेत्र में आएं.

आलिया की फैशन सैंस बहुत अच्छी है. उन्हें पता होता है कि कब क्या पहनना है. आलिया की आने वाली फिल्में ‘उड़ता पंजाब’ और ‘कपूर ऐंड संस’ हैं. उन का कोई ड्रीम प्रोजैक्ट नहीं है.