बैंकिंग क्षेत्र में ग्राहक सेवा को ले कर क्रांति का दौर जारी है. बैंक आएदिन ग्राहकों को नई तरह की सेवा देने के लिए कमर कसे हुए है. एटीएम से पैसे का लेनदेन अब अत्यधिक प्रचलन में है और सामान्य लेनदेन के लिए आम व्यक्ति धड़ल्ले से एटीएम का इस्तेमाल कर रहा है. एटीएम की जगह जेब में तय हो गई है और लोग ज्यादा नकदी रखने की बजाय एटीएम कार्ड साथ ले कर चलने में ज्यादा सहूलियत महसूस करते हैं. उधर, निजी क्षेत्र के दूसरे सब से बड़े एचडीएफसी बैंक ने व्यक्तिगत ऋण देने के लिए अपने ग्राहकों को एटीएम से सेवा देने का निर्णय लिया है.

ग्राहक को इस के लिए बैंक जाने की जरूरत नहीं है बल्कि वह एटीएम पर जा कर अपने लिए व्यक्तिगत ऋण का आवेदन भर सकता है. ग्राहक के लिए बैंक के एटीएम पर एक फार्म लोड है जिसे ग्राहक को भर कर जमा करना है. बैंक उस के आवेदन की जांच पड़ताल करेगा, उस के खाते पर होने वाले लेनदेन तथा जमा राशि का आकलन करेगा और ग्राहक की साख के आधार पर उसे उपयुक्त पाने पर तत्काल खाते में मांग के अनुसार पैसा डाल देगा. इस तरह ग्राहक अपने एटीएम पर ही इस ऋण की सुविधा हासिल कर सकेगा. यह पहल अनूठी है. इस के तहत ग्राहक को भले ही बहुत ज्यादा ऋण नहीं दिया जाएगा लेकिन जो भी वह न्यूनतम मांग करेगा, वैसा ऋण मिल जाएगा. इसी तरह से क्रेडिट कार्ड पर भी सुविधा दी जा रही है. व्यक्तिगत ऋण और क्रैडिट कार्ड के बढ़ते प्रचलन को देखते हुए बैंक ने यह फैसला लिया है. दिसंबर तक इस बैंक का व्यक्तिगत ऋण करीब 36 हजार करोड़ रुपए से अधिक हो चुका है जबकि उस के पास 67 लाख से अधिक क्रैडिट कार्ड हैं.

Tags: