आर्ट औफ लिविंग का हुनर और आकर्षक आयुर्वेदिक दवाइयां बेच रहे आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर किस कोने में खिसियाए से बैठे अपना गम मिटा रहे हैं, यह किसी को नहीं पता पर यह हर किसी को मालूम है कि उन्हें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने बुरे तरीके से लताड़ते हुए जता दिया था कि बातबात में सुलह की सरपंची ठीक नहीं होती.

हुआ यों था कि रविशंकर को गलतफहमी हो आई थी कि अगर पहल और मध्यस्थता की जाए तो राममंदिर विवाद सुलझ भी सकता है. जोशजोश में वे लखनऊ जा कर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित अयोध्या के संतों, महंतों और मुसलिम धर्मगुरुओं से मिले भी. इस पर मोहन भागवत ने सर्द लहजे में इशारा कर दिया कि वे मंदिर विवाद के फटे में टांग न अड़ाएं. इस बेइज्जती से रविशंकर को सुकून से रहने का फार्मूला मिल गया कि उन्हें मंदिर विवाद सुलझाने के लिए तो पैदा नहीं किया गया था.