आईडीबीआई बैंक के अधिकारियों ने एलआईसी की तरफ से बैंक के प्रस्तावित अधिग्रहण और वेतन संबंधी मुद्दों की मांग को लेकर छह दिन की लंबी हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है. अगर अधिकारियों की तरफ से दी गई इस चेतावनी के अनुसार कर्मचारी हड़ताल पर जाते हैं तो छह दिनी हड़ताल सोमवार से शुरू होगी. आईडीबीआई बैंक ने नियामकीय सूचना में कहा, ‘बैंक को अधिकारियों के एक तबके से नोटिस मिला है. नोटिस में 16 जुलाई 2018 से 21 जुलाई 2018 तक हड़ताल पर जाने की बात कही गई है.’

51 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने का विरोध

आईडीबीआई बैंक कर्मचारियों की वेतन समीक्षा नवंबर 2012 से लंबित है. उन्होंने पिछले साल हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी थी लेकिन बाद में प्रबंधन से आश्वासन मिलने के बाद इसे वापस ले लिया गया. इससे पहले, औल इंडिया आईडीबीआई औफिसर्स एसोसिएशन ने केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के सामने अपनी बात रखते हुए 51 प्रतिशत हिस्सेदारी एलआईसी को बेचे जाने के प्रस्ताव का विरोध किया था. उनका कहना था कि इस हिस्सेदारी बिक्री को बैंक के निजीकरण के समान समझा जाएगा.

business

एलआईसी खरीदेगा बैंक की हिस्सेदारी

इस बीच सूत्रों का दावा है कि बीमा नियामक इरडा से मंजूरी मिलने के बाद सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी एलआईसी कर्ज में डूबे आईडीबीआई बैंक में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी कर रही है. फिलहाल एलआईसी, आईडीबीआई बैंक, उसकी संपत्ति और कर्ज की स्थिति की जानकारी जुटा रही है. पिछले दिनों मिंट की रिपोर्ट में भी दावा किया गया था कि एलआईसी आईडीबीआई बैंक के 43 प्रतिशत शेयर 10 हजार 500 करोड़ रुपये में खरीद सकती है. फिलहाल एलआईसी के पास आईडीबीआई बैंक के 8 प्रतिशत शेयर हैं.

इससे पहले वेतन में 2 प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि करने की मांग को लेकर 30 और 31 मई को यूनाइटेड फोरम औफ बैंकिंग यूनियन (UFBU) के आह्वान पर 10 लाख बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे थे. यूएफबीयू ने भारतीय बैंक संघ (IBA) की तरफ से वेतन में महज 2 फीसदी बढ़ोतरी के प्रस्ताव के विरोध में दो दिन की हड़ताल की थी.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं