सरिता विशेष

बाहुबली साल 2017 की ऐसी फिल्म बन गई थी, जिसकी रिलीज से पहले लोग इस फिल्म को लेकर हर बात जानना चाह रहे थे. इसके पहले भाग की रिलीज के बाद फिल्म की कहानी, कलाकारों की परफौरमेंस के साथ-साथ फिल्म में स्पेशल इफेक्ट ने दर्शकों के मन को ऐसा मोह लिया कि उन्हें दूसरे भाग का इंतजार करना मुश्किल हो रहा था. लेकिन इन सब के अलावा यदि किसी चीज ने लोगों का मन मोह लिया, तो वह है फिल्म के सेट की भव्यता, जिसके चर्चे अब तक लोगों के बीच हो रहे हैं.

हाल ही में मिली खबर के मुताबिक फिल्म बाहुबली का भव्य सेट जिसे हैदराबाद के रामोजी फिल्म स्टूडियो में बनाया गया था उसे अब पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है. यह खबर मिलते ही लोगों का उत्साह देखते ही बन रहा है. खबर मिली है कि माहिष्मती राज्य में एंट्री करने के लिए आप औनलाइन बुकिंग कर सकते हैं, जिसकी कीमत 1000 और 2500 के बीच बताई जा रही है.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस फिल्म का सेट बनवाने के लिए लोगों ने कितनी मेहनत की है? आइये आज जानते हैं इस फिल्म के सेट को लेकर वो बातें, जो आपने इससे पहले कभी नहीं सुनी होगी.

इतने एकड़ में फैला है महिष्मति का राज्य

इस भव्य फिल्म को बनाने के लिए जाहिर है इस फिल्म का सेट भी विशालकाय बनवाया गया होगा. बता दें कि यह सेट रामोजी फिल्म सिटी में करीब 100 एकड़ में फैला हुआ है, जिसे देखकर आपको अपनी आंखों पर विश्वास नहीं होगा.

500 लोगों ने मिलकर तैयार किया था ये सेट 

बाहुबली के जिस सेट को देखने के लिए आज टिकटें रखी जा रही हैं और जिसे आज टूरिस्ट प्लेस की तरह प्रमोट किया जा रहा है, उसे बनाने के लिए 500 लोगों ने दिन रात मेहनत की थी, जिसकी वजह से इसे ऐसा रूप मिल.

इतने दिनों में बना है ये सेट

इस विशालकाय और भव्य सेट को बनाने के लिए लोगों को बेहद मेहनत करनी पड़ी. इसकी बारीक कारीगिरी को देखकर ये पता लगाया जा सकता है. इस पूरे सेट को बनाने के लिए दिन रात 50 कारीगर काम जुटे रहे थे.

35 करोड़ की लागत में बना है बाहुबली 2 का सेट

जिस विशालकाय सेट की वजह से फिल्म को एक प्रारूप मिला, ऐसे सेट को बनाने में करीब 35 करोड़ की लागत लगी थी. फिल्म के पहले भाग में दिखाए गए सेट को 28 करोड़ में बनाया गया था, जबकि बाहुबली 2 के लिए एक नए राज्य की रचना  की गई थी, जिसे बनाने में 35 करोड़ खर्च किये गए.

विशालकाय था अंदरूनी भाग

फिल्म के पहले भाग में आपने माहिष्मती राज्य को बाहरी रूप से देखा था, लेकिन इसके दूसरे भाग में राज्य के अंदरूनी भागों को दिखाया गया, जो पहले से भी ज्यादा विशालकाय और भव्य था.

चम्बल वैली में की गई थी शूटिंग 

बता दें कि फिल्म के प्रमुख हिस्सों को फिल्माने के लिए हैदराबाद स्थित रामोजी फिल्मसिटी का इस्तेमाल किया गया था. यहां चम्बल घाटी का एक बड़ा सेट बनवाया गया था, जिसे बनवाने के लिए 100 ट्रक मिट्टी बुलवाकर डलवाई गई और बाद  में सीन शूट किये गए.

बनाए गए थे 1500 स्केच

इस फिल्म की शूटिंग से पहले प्री प्रोडक्शन टीम ने 1500 स्केच बनवाए थे, जिसे ध्यान में रखकर बाद में फिल्म की शूटिंग की गई. इन स्केच में सबसे बड़ा पोस्टर 50,000 फिट बड़ा था, जिसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में जगह मिली है.

17 वीएफएक्स स्टूडियो ने किया काम

आपको जानकार हैरानी होगी कि इस फिल्म के सेट को तैयार करने के लिए करीब 17 वीएफएक्स स्टूडियो ने साथ मिलकर काम किया है, जिसमें करीब 800 से ज्यादा टेक्नीक्स का इस्तेमाल किया गया है.

विजुअल इफेक्ट्स के लिए खर्च किये इतने करोड़

न सिर्फ वीएफएक्स, बल्कि इसके सेट के विजुअल इफेक्ट्स के लिए निर्मातों ने 85 करोड़ रूपए खर्च किये हैं, जिसने इस फिल्म को सदी की सबसे बड़ी और आकर्षक फिल्म का खिताब दिया.

ऐसे बड़े सेट्स में जिस बाहुबली की शूटिंग की गई, उसे  भारत में 6500 स्क्रीन्स पर और दुनिया के 8500 स्क्रीन्स पर रिलीज किया गया था.