वह चौंक पड़ी, ‘‘तुझे चाइनीज लड़के से प्यार हो गया? जानती भी है कितनी मुश्किलें आएंगी? इंडियन लड़की और चाइनीज लड़का. पता है न उन का कल्चर कितना अलग होता है? रहने का तरीका, खानापीना, वेशभूषा सबकुछ अलग है.’’

‘‘तो क्या हुआ? मैं उन का कल्चर अडौप्ट कर लूंगी.’’

‘‘और तुम्हारे बच्चे? वे क्या कहलाएंगे इंडियन या चाइनीज?’’

‘‘वे इंसान कहलाएंगे और हम उन्हें इंडियन कल्चर के साथसाथ चाइनीज कल्चर भी सिखाएंगे.’’

मेरा विश्वास देख कर मेरी सहेली भी मुसकरा पड़ी और बोली, ‘‘यदि ऐसा है तो एक बार उस से दिल की बात कह कर देख.’’

मुझे सहेली की बात उचित लगी. अगले ही दिन मैं ने इत्सिंग को एक मैसेज भेजा जिस का मजमून कुछ इस प्रकार था, (हमारी बातचीत हमेशा इंग्लिश में होती है पर मैं यहां हिंदी में अनुवाद कर के बता रही हूं).

‘‘इत्सिंग क्यों न हम एक ऐसा प्यारा सा घर बनाएं जिस में खेलने वाले बच्चे थोड़े इंडियन हों तो थोड़े चाइनीज.’’

‘‘यह क्या कह रही हैं आप रिद्धिमा? यह घर कहां होगा इंडिया में या चाइना में?’’

इत्सिंग ने भोलेपन से पूछा तो मैं हंस पड़ी, ‘‘घर कहीं भी हो पर होगा हम दोनों का. बच्चे भी हम दोनों के ही होंगे. हम उन्हें दोनों कल्चर सिखाएंगे. कितना अच्छा लगेगा न इत्सिंग?’’

मेरी बात सुन कर वह शायद थोड़ा अचकचा गया था. उसे बात समझ में आ गई थी पर फिर भी क्लीयर करना चाहता था, ‘‘मतलब क्या है तुम्हारा? आई मीन क्या सचमुच?’’

‘‘हां इत्सिंग सचमुच मैं तुम से प्यार करने लगी हूं. आई लव यू.’’

‘‘पर यह कैसे हो सकता है?’’ उसे विश्वास नहीं हो रहा था.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT