तुम जो नजर भर के 
जब भी देखते हो मुझ को
सितारों से आगे जहां
अपना नजर आता है
 
जर्रा नाचीज था जो कल तक
मैं वो शख्स
तुम्हारे आने से अब
उस पे फकर आता है
 
रूह से अपनी इबादत की
जिस खुदा की हम ने
तुम्हारे हुस्न में वो
रूबरू नजर आता है
 
तुम को बांध लिया है
जिंदगी के दामन में
बेसबर दिल को अब 
भरपूर सबर आता है.
डा. नीरजा श्रीवास्तव ‘नीरू’
 

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...