सुरभि के बच्चे कैरियर बनाने के लिए विदेश क्या गए, वहीं के हो कर रह गए, जबकि दूसरी ओर पति की मौत और आएदिन महानगरों में होने वाले हादसों ने सुरभि को और भी डरा दिया था.

भाग-1

टे लीविजन का यह विज्ञापन उन्हें कहीं  बहुत गहरे सहला देता है, ‘झूठ बोलते हैं वे लोग जो कहते हैं कि उन्हें डर नहीं लगता. डर सब को लगता है, प्यास सब को लगती है.’ अगर वे इस विज्ञापन को लिखतीं तो इस में कुछ वाक्य और जोड़तीं, प्यास ही नहीं, भूख भी सब को लगती है...हर उम्र में...इनसान की देह की गंध भी सब को छूती है और चाहत की चाहत भी सब में होती है.

Tags:
COMMENT