लेखिका- मधु शर्मा कटिहा

‘‘पापाकी बातों से लग रहा था कि वे बहुत डिप्रैस्ड हैं. मैं चाहता तो बहुत हूं कि उन से मिलने का प्रोग्राम बना लूं, लेकिन नौकरी की बेडि़यों ने ऐसा बांध रखा है कि क्या कहूं?’’ फोन पर अपने पिता से बात करने के बाद मोबाइल डाइनिंग टेबल पर रखते हुए गौरव परेशान सा हो पत्नी शुभांगी और बेटे विदित से कह रहा था.

‘‘मैं ने कल मम्मी को फोन किया था. वे बता रहीं थी कि आजकल पापा बहुत मायूस से रहते हैं. टीवी देखने बैठते हैं तो उन्हें लगता है कि सभी डेली सोप और बाकी कार्यक्रम 60 साल से कम उम्र वाले लोगों के लिए ही हैं... बालकनी में जा कर खडे़ होते हैं तो लगता कि सारी दुनिया चलफिर रही है, केवल वे ही कैदी से अलगथलग हैं... उन्हें लगने लगा है कि दुनिया में उन की जरूरत ही नहीं है अब,’’ शुभांगी भी गौरव की चिंता में सहभागी थी.

‘‘मैं ने आज बात करते हुए उन्हें याद दिलाया कि कितने काम ऐसे हैं जो अब तक अधूरे पड़े हैं और कब से उन को पूरा करना चाह रहे हैं. अब पापा की रिटायरमैंट के बाद क्यों न मम्मीपापा वे सब कर लें, मसलन मम्मी के बांए हाथ में बहुत दिनों से हो रहे दर्द का ढंग से इलाज, पापा का फुल बौडी चैकअप और घर में जमा हो रहे सामान से छांट कर बेकार पड़ी चीजों को फेंकने का काम भी. पापा किसी बात में रुचि ही नहीं ले रहे. बस शिकायत कि तुम लोग इतना कम क्यों आतेजाते हो यहां?’’ गौरव के हृदय की पीड़ा मुख से छलक रही थी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT